तो इस वजह से लोग रात में नहीं काटते हैं नाखून

0
nail-cutting

हिन्दुस्तान अपनी संस्कृति, परंपरा और रीति रिवाज के इतिहास का गवाह रहा है और विविधताओं के इस मुल्क में अनगिनत मान्यताएं, परंपराएं और विचित्र नियमों को आज भी तवज्जो दी जाती है। इन्हीं परंपराओं के अनुष्ठान में लिपटी है रात में नाखून न काटने की यात्रा। इस लेख में आप रात्रि में शरीर के नाखून न काटने के तथ्य से वाकिफ होंगे।

1- अनूठी संस्कृतियों के देश भारत में आपने अक्सर कई लोगों के मुंह से यह कहते हुए सुना होगा कि रात में लोगों को नाखून नहीं काटने चाहिए। यही नहीं कुछ लोग तो रात में नाखून काटना अपशगुन मानते हैं और इससे कोई नुकसान होने का उन्हें भय रहता है।

2- मगर रात नाखून का काटने का सिद्धांत इसलिए प्रचलित है कि पुराने जमाने में बिजली के न होने के कारण के व्यक्ति रात में नाखून नहीं काटते थे। यह परंपरा सदियों से चली आ रही है।

3- प्राचीन समय में लोग रात में नाखून दो वजहों से नहीं काटते थे। पहला, ‘बिजली न होने के कारण’ और दूसरा,‘नैल कटर के उपलब्ध न होने के कारण’ क्योंकि तब लोग ब्लेड, कैंची या चाकू से नाखून काटते थे, बिजली न होने के कारण नाखून काटने में इन उपकरणों के इस्तेमाल से चोट का भय रहता था। इस कारण रात में नाखून काटने से मना किया जाता था।

ये भी पढ़ें : जीवन के ये कड़वे सच जान लें, जिंदगी हो जाएगी बेहतर