पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में उठ रही है आजादी की मांग

0

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर का एक और हिस्सा है जिसे गिलगित बाल्टिस्तान कहते है। पाकिस्तान के शहर आए दिन अपनी सरकारों से आजादी और कुशासन को लेकर विरोध प्रदर्शन करते रहते है। हाल ही में गिलगित बाल्टिस्तान में लोगों को पाकिस्तान के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन करते हुए देखा गया है। इसमें गिलगित बाल्टिस्तान के लोग पाकिस्तान की सरकार से अपनी आज़ादी की मांग कर रहे है।

विवादित मद्दा है गिलगित बाल्टिस्तान

आपको बता दे की पाकिस्तान के अंदर कश्मीर ही भारत के साथ विवादित मुद्दा नहीं है बल्कि गिलगित बाल्टिस्तान भी विवादित मुद्दा है। जब 1947 में पाकिस्तान को एक मुल्क का दर्जा दिया गया था, उस समय गिलगित बाल्टिस्तान को पाकिस्तान नें अपने कब्जे में ले लिया था। उस समय पाकिस्तान नें कराची समझौता करके गिलगित बाल्टिस्तान को पाकिस्तान की केंद्र सरकार के अधीन सौंप दिया था। लेकिन इस समझौते की किसी भी मिटिंग में गिलगित बाल्टिस्तान का कोई भी नेता शामिल नहीं था। इसी वजह से यहां के लोग पाकिस्तान सरकार पर आरोप लगाते है की उस समय पाकिस्तान नें हमारे इलाकें को ग़लत तरीके से अपने कब्जे में ले लिया था।

बुनियादी सुविधाओं के लिए तरस रहे है गिलगित बाल्टिस्तान के लोग

आपको बता दें की यहाँ के लोग बुनियादी सुविधाओं के लिए तरस रहे है। यहाँ के लोगों का अपनी सरकार पर आरोप है की वह उनके लिए किसी भी तरह की कोई सुविधा मुहैया नहीं करा रही है। बिजली- पानी से लेकर सड़कों की कमी, बेरजोगरी से परेशान युवा अब पाकिस्तान की सरकार से परेशान हो चुके है और अपनी आज़ादी की मांग कर रहे है। इससे पहले पाकिस्तान के नव निर्वाचित प्रधानमंत्री इरमान ख़ान नें कहा था की वह गिलगित बाल्टिस्तान को पाकिस्तान का 5 राज्य बनाएंगे। इससे भी गिलगित बाल्टिस्तान के लोग परेशान है। उन्हें लगता है की अग़र ऐसा हो जाता है तो फिर पाकिस्तान उनके उपर वैसी ही हुकुमत करेगा जैसे पाकिस्तान की सरकारें और फौज बालूचिस्तान के लोगों के ऊपर करती है।