ABVP ने DU कैम्पस से सावरकर, भगत सिंह और सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमाएं हटाने पर कांग्रेस और वामपंथियों को बताया देशविरोधी

DUSU
DUSU

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् छात्र संगठन ने शनिवार को एक बयान में कहा कि दिल्ली विश्वविद्यालय ने वी डी सावरकर, भगत सिंह और सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमाओं को हटा दिया है।

हालांकि, ABVP ने दावा किया कि दिल्ली विश्वविद्यालय ने उन्हें आश्वासन दिया है कि DUSU चुनाव संपन्न होने के बाद प्रक्रिया के अनुसार प्रतिमाओं को फिर से स्थापित किया जाएगा।

DUSU के अध्यक्ष शक्ति सिंह को यूनिवर्सिटी अधिकारियों से अनुमति लिए बिना ही 20 अगस्त को तीनों महापुरषों की प्रतिमाओं को लगाया था। इन मूर्तियों को शुक्रवार और शनिवार की रात को हटा दिया गया।

ABVP को RSS की विचारधारा से प्रेरित माना जाता है। संगठन ने एक बयान में कहा, “ABVP के नेतृत्व वाले DUSU ने DU प्रशासन से अनुमति मिलने तक वीर सावरकर, भगत सिंह और सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमाओं को हटा दिया है।”

इससे पहले ABVP ने DUSU के पदाधिकारियों को प्रक्रिया के अनुसार मूर्तियों को स्थापित करने के लिए कहा था।

ABVP ने गुरुवार को सावरकर की मूर्ति को हटाने पर कांग्रेस से जुड़े राष्ट्रीय छात्र संगठन (NSUI) के सदस्यों के खिलाफ “कड़ी कानूनी कार्रवाई” की मांग की थी।

ABVP ने AAP के CYSS के साथ वाम-संबद्ध छात्र संगठनों को लेकर दावा किया था और NSUI ने बहुत ही घटिया काम किया है और “विश्वविद्यालय में प्रचलित बहस और चर्चा की संस्कृति” को नुकसान पहुँचाया है।

ABVP का मानना ​​है कि वामपंथी, AAP और कांग्रेस से जुड़े छात्र संगठनों को अपने तुच्छ राजनीतिक हितों को पूरा करने के लिए स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान करना बंद करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली का 66 साल की उम्र में निधन

एबीवीपी दिल्ली के राज्य सचिव सिद्धार्थ यादव ने कहा: “यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि डीयू प्रशासन ने बहुत लंबे समय के लिए स्वतंत्रता सेनानियों की प्रतिमाओं की स्थापना के लिए DUSU को कदम उठाना चाहिए। विश्वविद्यालय को उनकी शख्सियत के अनुसार उनकी मूर्तियों को जल्द से जल्द लगवाना चाहिए।”

उन्होंने कहा कि अन्य छात्र संगठनों ने जिस तरह से इस तरह के बेहद दुर्भाग्यपूर्ण कृत्य को अंजाम दिया है, उससे स्वतंत्रता सेनानियों के प्रति इन छात्र संगठनों की वास्तविक और नीच मानसिकता का पता चलता है, जिसके नतीजे वे आने वाले समय में भुगतेंगे।

हालंकि दिल्ली विश्वविद्यालय से इस मामलें पर अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है।