दिवाली से पहले ही दिल्ली वालों का दम घुटने लगा, प्रदूषण सुरक्षित सीमा से 20 गुना अधिक

0

दिवाली से पहले दिल्ली और एनसीआर के इलाकों में धुंध की चादर देखने को मिल रही है। दिवाली में अभी दो दिन है, मगर दिल्ली और उसके आसपास का इलाका पूरी तरह स गैस चैंबर में तब्दील हो चुका है। दिवाली से दो दिन पहले राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता में गिरावट को लेकर मौसम अधिकारियों की चेतावनी के बीच आज सुबह धुंध की चादर दिखी।

सुबह आँखें खोलते ही दिल्ली वालों को प्रदूषित हवा में सास लेना पड़ रहा है कई जगहों पर तो हवा की क्वॉलिटी भी खतरनाक स्तर पर पहुँच गई है। हालांकि तापमान में गिरावट के चलते लोगों को ठंडी हवा का एहसास होने लगा है।

दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के मुताबिक, प्रदूषक तत्व पीएम 2.5 का स्तर दक्षिण दिल्ली के ओखला निगरानी स्टेशन पर आज सुबह 644 था, जो गंभीर स्थिति की कैटेगरी में आता है। यानी दिल्ली में वायु प्रदूषण, सुरक्षित सीमा से 20 गुना अधिक है. बता दें कि पीएम 2.5 बारिक कण होते हैं, जो फेफड़ों में प्रवेश कर सकते हैं और श्वसन रोगों का कारण बन सकते हैं।

पराली जलाने से भी बढ़ रहा है प्रदूषण

हरियाणा और पंजाब में किसान खेतों में पराली जला रहे है। खेतों से उठता धुआं दिल्ली और उसके आस पास के इलाकों को प्रदुषित कर रहा है। हालांकि केंद्र और राज्य सरकारों नें किसानों से पराली जलाने से मना किया है। लेकिन किसानों ने शिकयात की है की उनके पास खेतों में सूखी घास को ख़त्म करने के लिए खेतों में आग लगाने के अलावा कोई दूसरा तरीका नही है। किसान कह रहे है की उन्हें भी इस बात का दुख है की पराली जलाने से हवा में प्रदूषण बढ़ रहा है लेकिन वे मजबूर है।