IITian रह चुका यह शख्स सिंगापुर में नौकरी छोड़कर भारत में कर रहा है यह नेक काम

IITIAN
IITian रह चुका यह शख्स सिंगापुर में नौकरी छोड़कर भारत में कर रहा है यह नेक काम

मिडिल क्लास भारतीय माता-पिता चाहते हैं कि उनका लड़का अच्छे से पढ़कर इंजीनियर बन जाए या डॉक्टर बन जाए। अगर सोचो कोई इंजीनियर बन जाए और अच्छी खासी नौकरी भी उसे मिल जाए, लेकिन फिर भी वह उससे खुश न हो तो क्या होगा? ऐसा ही हुआ एक शख्स विपिन धेन के साथ। आइये इस बारें में विस्तार से जानते हैं।

किसी भी मिडिल क्लास भारतीय की तरह बिपिन धेन के माता-पिता का भी एक सपना था कि उनका बेटा एक अच्छी शिक्षा हासिल करे और एक अच्छा करियर पाए। इसके लिए विपिन ने कड़ी मेहनत की और आईआईटी खड़गपुर में प्रवेश पाया, इसके बाद उसे सिंगापुर में नौकरी मिली। नौकरी के तीन साल बाद वह अपनी नौकरी छोड़कर भारत चले आये।

बचपन से, धेन जरूरतमंद लोगों की मदद करना चाहते थे। कॉलेज में, वे परिसर में कम वेतन वाले श्रमिकों के बच्चों को पढ़ाते थे। 2015 में, जैसे ही धेन ने अपनी नौकरी छोड़ने का मन बनाया और कुछ ‘सार्थक’ करने के लिए भारत लौटे.

उन्होंने असम के माजुली नदी द्वीप की मोहक तस्वीरों को पोस्ट करने वाले एक ट्विटर हैंडल ज्वाइन किया। इसके जरिये उन्हें पता चला कि इलाके का एक स्कूल, एबियन पब्लिक स्कूल, एक शिक्षक की तलाश कर रहा था। धेन 2016 में संस्था से जुड़े और जल्द ही एक लोकप्रिय शिक्षक बन गए।

हालांकि, उनकी नियति द्वीप के एक और हिस्से में थीजहाँ पर जनजाति-वर्चस्व वाला क्षेत्र जहाँ सड़क और स्कूल नहीं हैं। गरीब बच्चों की दुर्दशा से प्रेरित होकर धेन ने जनवरी 2017 में स्थानीय लोगों के श्रम और शुभचिंतकों और उनकी खुद की बचत से द हमिंगबर्ड स्कूल की स्थापना की।

70 छात्रों और पांच शिक्षकों के साथ शुरू होने वाले इस स्कूल में अब 240 छात्र और 21 शिक्षक हैं। यह गरीब छात्रों को मुफ्त शिक्षा प्रदान करता है, जिसमें एक छात्रावास भी शामिल है, जिसमें 70 को ठहराया जाता है। यह माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, असम से संबद्ध है। अंग्रेजी माध्यम का स्कूल पारंपरिक शिल्प, कृषि, खेल, संगीत और थिएटर भी सिखाता है।

यह भी पढ़ें: क्या आप जानते है शाकाहारी लगने वाली चीजें असल में मांसाहारी होती है

धेन प्रति दिन शिक्षकों के लिए 1,200 रुपये और प्रत्येक छात्रावास के लिए 3,700 रुपये खर्च करते है। स्कूल को बेंगलुरु स्थित सनबर्ड ट्रस्ट, मुंबई स्थित कुछ मित्र और व्यक्तिगत दान करने वाले लोगों से धन मिलता है। विप्रो की सस्टेनेबिलिटी सीडिंग फैलोशिप द्वारा धेन के खर्चों का ध्यान रखा जाता है।