12th के नम्बर भूल जाइये, अब यूनिवर्सिटी में एडमिशन पाने के लिए देना होगा कॉमन टेस्ट

नयी एजुकेशन पॉलिसी के तहत अब 12वीं पास करके कॉलेज में एडमिशन के लिए भटकने वालों छात्रों को राहत मिलने वाली है। दरअसल अब जल्द ही देश की सभी यूनिवर्सिटी और कालेजों में एक कॉमन टेस्ट होगा। आइये इस बारें में विस्तार से जानते हैं।

HRD मिनिस्ट्री ने कॉमन टेस्ट कराने के प्रस्ताव को जल्द से जल्द अमल में लाएगी। इसे अंतिम रूप देने के लिए एक हाई लेवल की कमेटी गठित होगी। आपको बता बता दें कि नयी एजुकेशन पॉलिसी में इस बात का जिक्र था।

प्रस्ताव के ‘अनुसार कॉमन टेस्ट एग्जाम’ नेशनल टेस्टिंग एजेंसी आयोजित करेगी। विशेषज्ञों का मानना है कि कॉमन टेस्ट होने से बोर्ड में नंबर पाने की अंधी दौड़ ख़त्म होगी। बच्चों पर यह दबाव नहीं होगा कि उन्हें 99% लाना ही है नहीं तो कॉलेज में एडमिशन नहीं मिलेगा।

सरकार ने इस बात को संसद में भी कबूल किया था कि टॉप कालेजों की कट ऑफ इतनी जल्दी ऊँची चली जाती है कि कई योग्य स्टूडेंट एडमिशन लेने में पिछड़ जाते हैं।

नए टेस्ट के अनुसार कॉमन टेस्ट में प्रदर्शन के आधार पर स्टूडेंट्स की लिस्ट जारी होगी। फिर कॉलेज जरुरत के हिसाब से स्टूडेंट्स को एडमिशन दे सकेंगे।

यह भी पढ़ें: इस लिस्ट में बांग्लादेश और नेपाल जैसे देशों से भी पीछे है भारत , पाक की है यह स्थिति

आपको बता दें कि इस परीक्षा का आयोजन करने वाली नेशनल टेस्टिंग एजेंसी का गठन ही इसलिए किया गया है तमाम तरह की प्रवेश परीक्षाओं को एक सिंगल विंडो सिस्टम के तहत कराया जाए।