डोनाल्ड ट्रंप के बयान को भारत नें किया खारिज

0

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के बयान को भारत नें खारिज कर दिया है।  युद्ध से त्रस्त देश में एक पुस्तकालय के वित्त पोषण को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर तंज कसने को खारिज करते हुए आधिकारिक सूत्रों ने गुरुवार को यह बात कही. सूत्रों के अनुसार भारत कई बड़ी निर्माण परियोजनाओं को लागू कर रहा है, साथ ही अफगानिस्तान में लोगों की जरूरतों के मुताबिक सामुदायिक विकास कार्यक्रमों को लागू कर रहा है।

उन्होंने कहा कि इस तरह का सहयोग देश को आर्थिक रूप से समृद्ध और स्थिर करने के लिए जारी रहेगा. अफगानिस्तान में एक पुस्तकालय का वित्त पोषण करने के लिए ट्रंप ने मोदी पर तंज कसा था और कहा था कि युद्ध से प्रभावित देश में इसका कोई मतलब नहीं है. साथ ही उन्होंने उस देश की सुरक्षा के लिए पर्याप्त काम नहीं करने को लेकर भारत एवं अन्य देशों की आलोचना की थी।

बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत द्वारा अफगानिस्तान में एक लाइब्रेरी फंड करने को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी पर बुधवार को तंज कसा था. अफगानिस्तान में पीएम मोदी द्वारा एक लाइब्रेरी फंड करने के लिए ट्रंप ने मजाक उड़ाया और सुझाव दिया कि यहां इसका कोई इस्तेमाल नहीं है. नए साल के पहले कैबिनेट बैठक में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पीएम मोदी द्वारा अफगानिस्तान में एक पुस्तकालय की फंडिंग का जिक्र किया और कहा कि मैं आश्चर्य हूं कि उस देश में कौन इसका उपयोग करेगा.

हालांकि, अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि ट्रंप किस प्रोजेक्ट का हवाला दे रहे थे. मगर भारत ने वर्ष 2001 से अभी तक अफगानिस्तन को तीन अरब डॉलर से अधिक की मदद मुहैया कराई है. क्योंकि 11 सितंबर, 2001 के हमलों के बाद अमेरिकी नेतृत्व वाले सुरक्षाबलों ने तालिबान के चरमपंथी सत्ता को उखाड़ फेंका था.इन प्रोजेक्ट्स के तहत काबुल में एक हाईस्कूल का निर्माण करवाया जाएगा और हर साल एक हज़ार अफगानी बच्चों को भारत में स्कॉलरशिप दी जाएगी।