बाघ, भालू और गुलदार ही नहीं, अब बंदरों के हमले में घायल लोगों को भी मिलेगा मुआवजा

0

उत्तराखंड में बंदरों का आतंक इस कदर बढ़ चुका है राज्य सरकार द्वारा लिया गया एक निर्णय इसका जीता जागता प्रमाण है. सरकार ने निर्णय लिया है कि अब प्रदेश में बंदरों के हमले में घायल होने वाले पीड़ितों को भी मुआवजा दिया जाएगा. मुआवजा ठीक उसी तर्ज पर दिया जाएगा जिस तरह बाघ, भालू और गुलदार के हमले में घायल होने पर दिया जाता है. मामलों में मुआवजा दिया जाता है।

वन एवं पर्यावरण मंत्री डाक्टर हरक सिंह रावत ने दी जानकारी

सरकार के इस निर्णय की जानकारी प्रदेश के वन एवं पर्यावरण मंत्री डाक्टर हरक सिंह रावत ने विधानसभा सत्र के दूसरे दिन दी. प्रश्नकाल के दौरान विधायक चंदनराम रामदास, आदेश चौहान, भरत चौधरी, संजीव आर्य, कुंवर प्रणव चैंपियन ने प्रदेश के पर्वतीय तथा मैदानी हिस्सों में डेढ़ लाख से अधिक बंदरों के आतंक का मुद्दा उठाया जिसके जवाब में मंत्री ने यह जानकारी दी. मंत्री हरक सिंह रावत ने यह भी कहा कि राज्य की 12168 वन पंचायतों को बंदर पकड़ने की ट्रेनिंग के साथ ही फंड भी दिया जाएगा।