केरल में कोरोना का पहला मरीज हुआ रोगमुक्त

0
health
केरल में कोरोना का पहला मरीज हुआ रोगमुक्त

दक्षिण भारत के केरल में कोरोना वायरस से संक्रमित एक मेडिकल की क्षात्रा की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। यह क्षात्रा चीन के वूहान शहर से लौटी थी और भारत में कोरोना वायरस की पहली मरीज़ थी।

वूहान से लौटने के बाद जब मेडिकल क्षात्रा की मेडिकल जांच की गई तो उसमे कोरोना वायरस के लक्षण मिले थे जिसके बाद उसे तुरंत मेडिकल उपचार के लिए हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था.

इस बीच भारत सरकार ने लोकसभा में कोरोना वायरस के मुद्दे पर बताया कि देश में कोरोना वायरस से निपटने के लिए ठोस कदम उठाए है। अब तक एक लाख से ज्यादा यात्रियों की विभिन्न हवाईअड्डों पर थर्मल स्क्रीनिंग की गई है।

केरल स्वास्थ विभाग के अधिकारीयों ने मंगलवार को बताया कि कोरोना वायरस की पहली पीड़िता के ब्लड सैंपल को राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान भेजा गया था लेकिन इस सैंपल को अभी भी पुणे स्थित NIV से इसकी पुष्टि होनी बाकी है।

डॉक्टर ने बताया है कि मेडिकल क्षात्रा की हालत स्थिर है ,उन्होंने कहा कि केरल में अभी भी 3500 से ज्यादा लोगों को निगरानी में रखा गया है ,जिनमें से 35 विभिन्न अस्पतालों के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है।

यह भी पढ़ें :केरल में कोरोनवायरस से संक्रमित तीसरा केस, इलाज के लिए अजीबोंगरीब उपाय

वहीं महाराष्ट्र में विभिन्न अस्पतालों के आइसोलेशन वार्ड में रखे गए 34 लोगों क छुट्टी दे दी गई है इस मुद्दे को लेकर केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है की प्रवाशी पक्षियों से कोरोना वायरस से कोई भी सम्बन्ध नहीं है ,उन्होंने कहा कि प्रवासी पक्षियों से कोरोना वायरस के तेजी से फ़ैलाने की ख़बरें भ्रामक है.