केरल में कोरोनवायरस से संक्रमित तीसरा केस, इलाज के लिए अजीबोंगरीब उपाय

Coronavirus
Coronavirus

भले ही कोरोनवायरस चीन में फ़ैल रहा हो लेकिन इससे पूरी दुनिया भयभीत है। भारत में अबतक तीन लोग इससे संक्रमित पाये गए हैं। ये तीनों मामले केरल से है। अब तक चीन में कोरोनवायरस से मौत का आंकड़ा 361 तक पहुंच गया है।

केरल सरकार ने सोमवार को तीसरे छात्र के कोरोनावायरस महामारी से संक्रमित पाये जाने पर “राज्य आपदा” घोषित किया, और आश्वासन दिया कि इस वायरस को रोकने के लिए तमाम कदम उठाये जा रहें है।

इस बीमारी की पहचान सबसे पहले दिसंबर में चीन के वुहान में हुई थी। ज्ञात है कि इसकी संक्रामक प्रकृति तेजी से फैल रही है, कई अन्य देशों ने अपने पहले पुष्टि किए गए मामलों की रिपोर्ट की है।

वहीं इस बीमारी के निदान के लिए कई नेताओं और अधिकारीयों ने अलग-अलग तरह के सुझाव दिए।

इसकी शुरुआत आयुष मंत्रालय से हुई, जिसमें आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी, सिद्ध, सोवा रिग्पा और होम्योपैथी शामिल हैं।

इसके बाद, हिंदू महासभा ने इस बीमारी के इलाज के लिए गोमूत्र और गोबर का उपचार बता डाला।

हिंदू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि महाराज ने कहा कि गोमूत्र और गोबर का इस्तेमाल कोरोनावायरस बीमारी के इलाज के लिए किया जा सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि “कोरोनावायरस को मारने और दुनिया पर इसके प्रभावों को समाप्त करने के लिए एक विशेष यज्ञ किया जाए।”

यह भी पढ़ें- MP: पहले तीन तलाक दिया फिर हलाला ससुर के साथ करने के लिए कहा

चक्रपाणि ने कहा, “गोमूत्र और गोबर के सेवन से संक्रामक कोरोनोवायरस का प्रभाव बंद हो जाएगा। एक व्यक्ति जो ओम नमः शिवाय का जाप करता है और शरीर पर गोबर लगाता है, वह बच जाएगा। जल्द ही कोरोनोवायरस को मारने के लिए एक विशेष यज्ञ अनुष्ठान किया जाएगा।”

आपको बता दें कि भारत में अभी तक कोई मौत नहीं हुई है, अब तक तीन में वायरस होने की पुष्टि हुई है।