मेरे बेटे की हार की जिम्मेदारी लें पायलट: अशोक गहलोत

0
Ashok gehlot and sachin pilot

दरअसल, लोकसभा चुनाव में राजस्थान में कांग्रेस की हुई क़रारी हार की ज़िम्मेदारी लेने के लिए राज्य नेतृत्व में घमासान छिड़ा हुआ है और ये घमासान रूकने का नाम नहीं ले रहा है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि चुनाव में उनके बेटे की हुई हार की ज़िम्मेदारी सचिन पायलट को लेनी चाहिए। बता दें कि गहलोत के इस बयान पर सचिन पायलट ने प्रतिक्रिया देने से इंकार कर दिया है।

राजस्थान में कांग्रेस पार्टी के ख़राब प्रदर्शन का ठीकरा किस पर फोड़ा जाए, इसे लेकर कोई साफ़ स्थिति नज़र नहीं आ रही है, मगर अशोक गहलोत ने कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट को हार ज़िम्मेदारी लेने को कहा है। जब पत्रकारों ने सीएम गहलोत से पूछा कि क्या यह सच है कि जोधपुर से आपके बेटे (वैभव) का नाम सचिल पायलट ने ही सुझाया था? गहलोत ने कहा ‘’यदि पायलट ने ऐसा किया था तो यह अच्छी बात है। यह हम दोनों के बीच मतभेद की खबरों को खारिज करती है’’।

अपने बयान इस दौरान उन्होंने ये भी कहा ‘’पायलट साहब ने यह भी कहा था कि वह (वैभव) बड़े अंतर से जीतेगा, क्योंकि हमारे वहां 6 विधायक हैं, और हमारा चुनाव अभियान बढ़िया था। तो मुझे लगता है कि उन्हें वैभव की हार की जिम्मेदारी तो लेनी चाहिए। जोधपुर में पार्टी की हार का पूरा पोस्टमॉर्टम होगा कि हम वह सीट क्यों नहीं जीत सके’’। 

इस दौरान उनसे पूछा गया कि क्या उन्हें वाकई लगता है कि पायलट को हार की ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए?  इस पर अशोक गहलोत ने कहा ‘’उन्होंने कहा कि हम जोधपुर जीत रहे थे (जोधपुर से) इसलिए उन्होंने जोधपुर से टिकट लिया। लेकिन हम सभी 25 सीट हार गए। इसलिए यदि कोई कहता है कि सीएम या प्रदेश अध्यक्ष को इसकी ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए तो मेरा मानना है कि यह एक सामूहिक जिम्मेदारी है’’।

इस साक्षात्कार में गहलोत ने ज़ोर देते हुए ये भी कहा कि ‘’हर किसी को हार की ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘यदि कोई जीतता है सब श्रेय मांगते हैं, लेकिन यदि कोई हारता तो कोई जिम्मेदारी नहीं लेता। चुनाव सामूहिक नेतृत्व में पूरे हुए हैं’’।  

बता दें कि आम चुनाव में राजस्थान की जोधपुर सीट से सीएम अशोक गहलोत के बेटे वैभव को भाजपा उम्मीदवार गजेन्द्र सिंह शेखावत ने चार लाख से ज़्यादा वोटों से हराया था।