Zelensky Russia Attack: जेलेंस्की ने भरी हुंकार, रूसी अल्टीमेटम तभी पूरा हो सकता है जब पूरा यूक्रेन नष्ट हो जाए

167

Zelensky Russia Attack: जेलेंस्की ने भरी हुंकार, रूसी अल्टीमेटम तभी पूरा हो सकता है जब पूरा यूक्रेन नष्ट हो जाए

कीव
यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोदिमिर जेलेंस्की ने कहा है कि चल रहे युद्ध को खत्म करने का रूस का अल्टीमेटम तभी पूरा हो सकता है, जब पूरा यूक्रेन तबाह हो जाए। जेलेंस्‍की ने कहा, ‘रूसी कहते हैं कि हमारे पास एक अल्टीमेटम है, शर्ते हैं, इसे पूरा करें और फिर हम युद्ध को समाप्त करेंगे। यह गलत है। यह मेरे बारे में नहीं है। यह लोगों की एकता के बारे में है। हम एक साथ ऐसा करने में सक्षम नहीं हैं। यूक्रेन इस अल्टीमेटम को पूरा नहीं कर सकता।’

यूक्रेइंस्का प्रावदा ने सोमवार रात एक साक्षात्कार के दौरान राष्ट्रपति के हवाले से कहा, ‘आप ऐसा कैसे कर सकते हैं? हम सभी को नष्ट करना होगा, फिर डिफॉल्ट रूप से उनका अल्टीमेटम मिलता है।’ जेलेंस्की ने उदाहरणों का हवाला दिया जब रूसी सैनिकों ने मेलिटोपोल और बर्डियांस्क के शहरों पर कब्जा कर लिया, लोगों ने उनके सामने आत्मसमर्पण नहीं किया। उन्होंने कहा, ‘आप क्या चाहते हैं? हम सभी को नष्ट करना? इसलिए मैंने जवाब दिया: हम उनका अल्टीमेटम तभी पूरा कर सकते हैं, जब हममें से कोई भी नहीं बचेगा।’

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कई मांगें रखी
एक संभावित युद्धविराम समझौते के लिए रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कई मांगें रखी हैं, जिसमें यूक्रेन की तटस्थ और गैर-परमाणु स्थिति, विसैन्यीकरण और विमुद्रीकरण, कब्जे वाले क्राइमिया को रूस के रूप में मान्यता और तथाकथित ‘डोनेट्स्क पीपुल्स रिपब्लिक’ और ‘लुहांस्क पीपुल्स रिपब्लिक’ की संप्रभुता शामिल हैं। इसके जवाब में, जेलेंस्की ने रविवार को कहा कि यूक्रेन अपनी क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता से समझौता नहीं करेगा।

इस बीच 17 मार्च को राष्ट्रपति के सलाहकार, मायखाइलो पोडोलियाक ने कहा कि मांगों की समीक्षा में रूस के साथ कई दिनों की बातचीत हो सकती है, जिसके बाद पुतिन और जेलेंस्की के बीच संभावित बैठक की तैयारी शुरू हो सकती है। इस बीच जेलेंस्की ने सोमवार देर रात दिए एक अन्‍य बयान में कहा कि वह संघर्ष-विराम, रूसी सैनिकों की वापसी और यूक्रेन की सुरक्षा की गारंटी के बदले में नाटो की सदस्यता नहीं लेने के विषय पर चर्चा करने को तैयार हैं।

पुतिन के साथ सीधी बातचीत के आह्वान को भी दोहराया
जेलेंस्की ने कहा, ‘यह हर किसी के लिए एक समझौता है। पश्चिम के लिए, जो नहीं जानता कि नाटो के संबंध में हमारे साथ क्या करना है। यूक्रेन के लिए, जो सुरक्षा गारंटी चाहता है और रूस के लिए भी, जो नाटो का विस्तार नहीं चाहता है।’ जेलेंस्की ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ सीधी बातचीत के अपने आह्वान को भी दोहराया। उन्होंने कहा कि जब तक वह पुतिन से नहीं मिलते, यह समझना असंभव है कि क्या रूस भी युद्ध को रोकना चाहता है या नहीं।



Source link