सवाल 5- जन्म प्रमाण पत्र होना क्यों जरूरी है ?

0

मित्रों पहले के समय क्या होता था अगर नहीं पता तो अपने बुजुर्गो से पूछे नहीं तो हम आपको बताएंगे. उन दिनों इसका कोई महत्व नहीं था और न ही हमें इसकी कभी जरूरत पड़ी। स्कूल में दाखिला करते समय,आवेदन पत्र पर पिताजी जो दिनांक लिख देते थे. वही आधिकारिक तौर पर जन्म दिन के रूप में मनाया जाता था लेकिन समय बदल चुका है। जन्म प्रमाण पत्र के बिना न रहें। अर्जी देकर उसका प्रबन्ध करा लें।

अब आगे पढ़े की क्यों जरुरी है

वर्तमान नियमानुसार कोई भी नागरिक जो 1990 के बाद पैदा हुआ है उसे अभयपत्र (passport) के लिए जन्म प्रमाण पत्र देना अनिवार्य है (“अपडेट : पासपोर्ट List of Acceptable Documents के लिए जन्म प्रमाण प्रत्र आवश्यक नहीं है )। अतः आप समझ सकते हैं यह कितना आवश्यक है।

लगभग सभी राज्यों में बच्चे के पैदा होने के 1 माह के अंदर जन्म पंजीकरण का कोई शुल्क नहीं है। साथ ही आप जितनी जल्दी हो सके आधार पंजीकरण भी कराएं।

  1. जन्म और आधार पंजीकरण से सरकार के पास अद्यतन (updated) जानकारी होती है।
  2. यह शिशु का पहला आधिकारिक अभिलेख (record) होता है।
  3. साथ ही सभी सरकारी सुविधाओं का लाभ लेने में सहायक होता है।

जन्म पंजीकरण सिर्फ एक व्यक्ति नही बल्कि देश की नीतियों पर भी असर डालता है । भारत में लगभग 49,000 बच्चे रोज पैदा होते है। अगर एक महीने तक किसी शिशु का पंजीकरण न हो, तो सरकार या दवा कंपनियां, दवाइयों की आपूर्ति कम देंगी। अगर, इसी बीच कोई बच्चों की बीमारी फैलती है तो देश मे संकट आ सकता है, दवाइयों की कमी से कई बच्चों की जान जा सकती है। यह सिर्फ एक उदाहरण है। इस तरह कई ऐसे कारण है।

शिशु जन्म पंजीकरण एक अनिवार्य कार्य है। यह न सिर्फ आपके, बल्कि और बच्चों को भी प्रभावित करता है। भारत में जन्म प्रमाण पत्र अस्पताल मुहैया नहीं कराता है| बस एक अनौपचारिक चिठ्ठी होती है जिसको दिखाकर म्युनिसिपलिटी जन्म पत्र देती है| इस जन्म पत्र के बुनियाद पर पासपोर्ट और विद्यालय में भी दाखिला मिलता है।

कोशिश करें कि आप अपने बच्चे के जन्म प्रमाण पत्र के लिए 21 दिनों के भीतर ही आवेदन कर दें। इससे प्रक्रिया में ज्यादा समय नहीं लगता है। अगर आपको बहुत जल्दी जन्म प्रमाण पत्र बनवाना है तो इसके लिए फ़ास्ट ट्रैक प्रक्रिया भी है।

जन्म प्रमाण पत्र के लिए आवेदन करने के लिए आपको निम्न दस्तावेजों की आवशयकता होगी:

1. आवेदन पत्र

2. राशन कार्ड (या कोई दस्तावेज जिसमे बच्चे का नाम, माता पिता का नाम व जन्म तारीख अंकित हो)

3. आवेदन फीस

आवेदन पत्र: यह एक प्रकार का खाली पन्ना है जिस पर आवेदन कर्ता को अपनी जानकारी भरनी पड़ती है यह जानकारी इस प्रकार है:

1. नाम

2. पिता का नाम

3. माता का नाम

4. जन्म वर्ष (इसमें तीन वर्ष सम्मिलित होंगे; यदि आपका जन्म 1990 में हुआ है तो 1989, 1990 तथा 1991 वर्षों में नामांकित नामों में आपका जन्म प्रमाण पत्र खोजा जाएगा)

5. जन्म स्थान व वर्तमान स्थाई पता।

आशा है कि आपको अपना जवाब मिल गया होगा | आप लोग ऐसे ही हमसे सवाल पूछते रहिए हम उनका जवाब खोज कर आप को देंगे | आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे अपने सवाल पूछ सकते है | सवाल पूछने के लिए आप का धन्यवाद . 

Credit – Sujit & Anoop