जानिए पक्षियों की चालाकी, क्यों उड़ती है V Formation में ?

0
b1
जानिए पक्षियों की चालाकी, क्यों उड़ती है V Formation में ?

कई बारें अपने देखा होगा कि आसमान में उड़ते हुए पक्षी का समूह कई बार अंग्रेजी के v अक्षर बनाकर उड़ते नजर आते है. क्या आप जानते है कि वह क्यों इस तरह के समूह बनाकर उड़ते है. कैसे वह अपने आपको और अपने साथ उड़ रहीं दूसरी पक्षियों के लिए मदद का जरिए बन जाती है शायद ये बहुत कम लोग जानते है कि ऐसा वे हवा को काटकर ऊर्जा बचाने के लिए करते हैं.

जी हां वैज्ञानिकों ने पाया है कि v आकार में उड़ती पक्षियां किसी अकेली पक्षी के मुकाबले दस से बीस प्रतिशत उर्जा बचाकर लगभग 5 किलोमीटर प्रति घंटा अधिक तेज उड़ पाती है. प्रजनन के बाद जब बच्चे बड़े होकर पूरी तरह उड़ान भरने लगते हैं, तो इन्हें भी इन लम्बी यात्राओं में शामिल कर लिया जाता है. लेकिन यह भी देखा गया है. कि उड़ते पक्षियों के अधिकांश समूहों में बच्चे सबसे आगे उड़ते हैं, ताकि वे लगातार बड़ों की निगाहों में बने रहें.

आकाश मार्ग का रास्ता लंबा होता है, जिसे कुछ पक्षी तो एक बार में ही पूरा कर लेते हैं, तो कुछ रूक रूक कर कई दिनों या कुछ सप्ताहों में यह रास्ता तय करते है. बिना रुके एक बार में सबसे लंबी उड़ान भरने का विश्व रिकॉर्ड छोटे गुदरा के नाम है. यह पक्षी अलास्का से उड़कर न्यूज़ीलैंड के अपने प्रजनन स्थलों तक का 11000 किलोमीटर का सफर एक बार में पूरा कर डालता है. कहा जाता है कि इस लम्बी उड़ान के दौरान उसके शरीर का वजन आधे से भी काम रह जाता है.

यह भी पढ़ें : महिला पार्टनर के साथ इस तरह की पोजीशन को अपनाने से जल्द ही संतुष्ट होती है

लेकिन कम ऊंचाई पर उड़ने वाले अधिकाँश पक्षी सीधे सफर करने की जगह बीच बीच में रूककर विश्राम करते और भोजन तलाशते हैं. कई बार यह विश्राम उनके लिए खतरे का कारण भी बन जाता है.