अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली पुलिस से DTC बसें वापस क्यों मांगी है?

304
news
अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली पुलिस से DTC बसें वापस क्यों मांगी है?

कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के प्रदर्शन और दिल्ली की सीमाओं पर सुरक्षा-व्यवस्था के बीच केजरीवाल सरकार ने दिल्ली पुलिस से डीटीसी बसों को लौटाने को कहा है। दिल्ली परिवहन विभाग ने डीटीसी को निर्देश देकर दिल्ली पुलिस को प्रदान की गई 576 बसों को वापस करने को कहा है। दरअसल, डीटीसी की ये बसें सुरक्षा एजेंसियों द्वारा किसान प्रदर्शन के दौरान आवाजाही के लिए इस्तेमाल की जा रही हैं।

परिवहन विभाग के अधिकारियों ने कहा कि शहर के विभिन्न हिस्सों में तैनाती के लिए पुलिस और अर्धसैनिक बल के कर्मचारियों की आवाजाही के लिए लो-फ्लोर डीटीसी बसों का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जाता है। अधिकारियों ने कहा कि संबंधित विभागों को बसों को जल्द छोड़ने के लिए कहा गया है।

kisan non 2 -

अधिकारी ने कहा कि दिल्ली सरकार द्वारा ली गई डीटीसी से ली गई रिपोर्टों से पता चला है कि दिल्ली के डिपो में 20 प्रतिशत से अधिक बसें विशेष किराये पर चल रही हैं। इतना ही नहीं, 26 जनवरी को हुई हिंसा के दौरान कई बसें क्षतिग्रस्त हो गईं थीं। बता दें कि वर्तमान में 3,700 से अधिक डीटीसी बसें हैं।

सरकारी अधिकारी ने हा कि ‘विशेष किराये’ पर चल रहीं डीटीसी की बसों को तत्काल प्रभाव से वापस लेने का फैसला किया गया है। अधिकारियों द्वारा यह भी निर्णय लिया गया है कि अब विशेष किराया के तहत डीटीसी की बसों को लेने के लिए दिल्ली पुलिस या किसी सुरक्षा एजेंसी को सरकार की मंजूरी लेनी होगी।

दिल्ली सरकार के इस फैसले के पीछे कईं वजहें हैं। एक तो दिल्ली सरकार को डिपो में बसों की कमी की लगातार शिकायतें मिल रही हैं और दूसरा 26 जनवरी की घटना में बसों को नुकसान पहुंचा है। इतना ही नहीं, दिल्ली पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों द्वारा बसों का इस्तेमाल बैरिकेडिंग के लिया किया जा रहा है, जिससे बसों के नुकसान होने की संभावना अधिक है, जैसा कि पिछले दिनों आंदोलन के दौरान दिखा।

दिल्ली सरकार का फैसला ऐसे वक्त में आया है, जब दिल्ली की सीमाओं पर भारी संख्या में पुलिस और पैरामिलिट्री बलों की तैनाती की गई है, जहां किसान केंद्र सरकार के कृषि कानूनों का पिछले दो महीने से विरोध कर रहे हैं। बता दें कि पुलिस तैनाती के अलावा, दिल्ली की सीमाओं की कील, तार और बैरिकेडिंग से किलेबंदी कर दी गई है।

dtc non -

दिल्ली सरकार की केंद्र सरकार के साथ अनबन होने के कारण इस तरह का रवैया दिल्ली की सुरक्षा से खिलवाड़ जैसा है. यही वजह है कि दिल्‍ली सरकार ने पुलिस की सेवा में लगीं 576 डीटीसी की हरी बस डिपो बुलाने का फरमान जारी कर दिया है. इसके साथ कहा जा रहा है कि सभी फौजियों, सीआरपीएफ वालों और दिल्‍ली पुलिस के जवानों को जहां हो वहीं उतारकर डिपो आ जाओ.

इस आंदोलन में अब जवान और किसान दोनों सड़कों पर आ गए हैं. दिल्ली की सुरक्षा के लिए जवानों का होना बहुत जरूरी है और इस राजनीति के चक्कर में अब जवानों को रात में खुले आसमान के नीचे रहना पड़ेगा. डीटीसी कर्मचारी एकता यूनियन दिल्ली सरकार के इस रवैया का कड़ा विरोध करती है और दिल्ली सरकार से अपील करती है कि सीआरपीएफ जवानों को डीटीसी बसें उपलब्ध करवाई जाएं

यह भी पढ़े:दाद को जड़ से खत्म करने के लिए उपाय?