EU सांसदों की टीम के श्रीनगर जाने से क्यों भड़की कांग्रेस ?

0
EU
EU सांसदों की टीम के श्रीनगर जाने से क्यों भड़की कांग्रेस ?

अनुच्छेद 370 के जम्मू -कश्मीर से हटने के बाद ऐसा पहली बार है की विदेशी दल घाटी का दौरा करेंगे। यूरोपियन यूनियन के 28 सांसद जम्मू-कश्मीर के दौरे पर श्रीनगर पहुंचे हैं। खबरों के अनुसार यूरोपियन यूनियन के 28 सांसद राज्यपाल सत्यपाल मलिक, स्थानीय अधिकारियों और निवासियों से मुलाकात दौरे के दौरान मुलाक़ात कर सकते है। इसके अलावा श्रीनगर की मशहूर डल झील का भी दौरा करेंगे।

यूरोपीय सांसदों को जम्मू-कश्मीर जाने की अनुमति देने का भारत में राजनीतिक विरोध हो रहा है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट कर सरकार के इस फैसले पर सवाल खड़े किए. राहुल ने लिखा कि EU के सांसदों को जम्मू-कश्मीर जाने की इजाजत है, लेकिन भारत के नेताओं या सांसदों को जाने नहीं दिया जा रहा है. इस बात में काफी कुछ गलत है।

राहुल गांधी के अलावा अन्य राजनीतिक दल, इससे पहले देश में कांग्रेस समेत विपक्ष के कई नेताओं ने कश्मीर जाने की कोशिश की थी, लेकिन उन्हें श्रीनगर एयरपोर्ट से आगे नहीं बढ़ने दिया गया था।

यूरोपियन यूनियन के सांसदों की टीम का कश्मीर दौरा का सबसे बड़ा कारण कश्मीर की वर्तमान स्थिति की जानकारी प्रदान करना की जम्मू -कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने से वह के लोग कितने प्रभावित है , अनुच्छेद 370 के हटने से वह के लोग , अर्थव्य्वस्था और रोजमर्रा पर कितना असर पड़ा है। असल में जम्मू – कश्मीर की क्या हालत है।

यह भी पढ़ें : करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए खोले गए 80 इमीग्रेशन काउंटर

जो दिखाया जा रहा की जम्मू – कश्मीर की हालत सामान्य है, वो सच में है या नहीं। ये सभी सांसद स्थानीय लोगों, अधिकारियों से मुलाकात करेंगे और हालात का जायजा लेंगे. इन सांसदों का दल आज रात कश्मीर में ही रुकेगा, जिसके बाद बुधवार को इनकी दिल्ली वापसी होगी।