गणेश जी के दांत से कौन से ग्रंथ की रचना हुई थी ?

lord ganesh
lord ganesh

गणेश जी के दांत से कौन से ग्रंथ की रचना हुई थी ?

भगवान गणेश को बुद्धि , विद्या , धैर्य और लेखनी का स्वामी माना जाता है। किसी भी नई चीज़ कि शुरुआत करे और गणेश जी को न पूजे तो वो चीज़ अधूरी रह जाती है। बुद्धि और लेखन शक्ति के कारण उन्होंने ऐसे महान ग्रंथ की रचना की जिसे आज हम महाभारत के नाम से जानते है। आपको बताना चाहेंगे की हिन्दू धर्म में महाभारत एक धार्मिक, ऐतिहासिक, पौराणिक एवं दार्शनिक ग्रंथ माना गया है| महाभारत विश्व का सबसे लम्बा साहित्यिक ग्रंथ है तथा प्राचीन भारत के इतिहास की जानकारी देता है| इस ग्रंथ में 100000 श्लोकों का वर्णन किया गया है| महाभारत केवल एक व्यक्ति या एक दिन की रचना नहीं है बल्कि इसका विकास सदियों में हुआ था|

महर्षि वेदव्यास महाभारत
महर्षि वेदव्यास महाभारत

बात उस समय की है जब महर्षि वेदव्यास महाभारत नाम के महाकाव्य की रचना करने जा रहे थे। अपने महाकाव्य के लिए वे एक ऐसा लेखक कि जरूरत थी , जो उनके विचारों की गति को बीच में बाधा न डाले और महाभारत जैसे महँ ग्रथं को लिखने में सक्षम हो।

इस क्रम में उन्हें भगवान गणेश की याद आई और उन्होंने आग्रह किया कि श्री गणेश उनके महाकाव्य के लेखक बनें। गणेश जी ने उनकी बात मान ली, लेकिन साथ ही एक शर्त रखी थी , उसके अनुसार गणेश जी की शर्त थी कि महर्षि एक क्षण के लिए भी कथावाचन में विश्राम नहीं लेंगे। यदि वे एक क्षण भी रूके, तो गणेश जी वहीं लिखना छोड़ देंगे।

भगवान गणेश
भगवान गणेश

महर्षि व्यास ने बहुत अधिक गति से बोलना शुरू किया और उसी गति से भगवान गणेश ने महाकाव्य को लिखना जारी रखा। इस गति के कारण एकदम से गणेश जी की कलम टूट गई, वे ऋषि की गति के साथ तालमेल बनाने में चूकने लगे। इस स्थिति में हार ना मानते हुए गणेश जी ने अपना एक दांत तोड़ लिया और उसे स्याही में डुबोकर लिखना जारी रखा।

यह भी पढ़ें :Happy Navratri 2020 : इन नवरात्री Wishes से करे अपना त्यौहार जगमग

गणेश जी के दाँत से महाभारत जैसे महँ ग्रन्थ की रचना हुई। वहीं ऋषि भी समझ गए कि गणेश जी की त्वरित बुद्धि और लगन का कोई मुकाबला नहीं है। इसी के साथ उन्होंने गणेश जी को नया नाम एकदंत दिया। तब से गणेश जी एकदंत के तोर पर विश्व भर में पूजे जाने लगे।

Today latest news in hindi के लिए लिए हमे फेसबुक , ट्विटर और इंस्टाग्राम में फॉलो करे | Get all Breaking News in Hindi related to live update of politics News in hindi , sports hindi news , Bollywood Hindi News , technology and education etc.