Home Breaking News Hindi पतंजलि श्वासारि सिरप के फायदे या नुक्सान क्या हैं?

पतंजलि श्वासारि सिरप के फायदे या नुक्सान क्या हैं?

0
10830
news

पतंजलि श्वासारि सिरप के फायदे या नुक्सान क्या हैं?(Patanjali Swasari Syrup Ke Fayde Ya Nuksaan Kya Hai)

पतंजलि दिव्य स्वसरी प्रवाही सिरप फेफड़ों की कोशिकाओं को सक्रिय करती है। यह श्वसन तंत्र और फेफड़ों की सूजन को कम करता है। इसके उपयोग से फेफड़ों में जमा कफ का निष्कासन आसान हो जाता है। यह एक प्रभावी आयुर्वेदिक दवा है जिसका उपयोग अस्थमा के इलाज के लिए किया जाता है। यह सांसों के अटैक से राहत दिलाता है। सांस की अन्य समस्याओं के इलाज के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है।

यह एक सुरक्षित और प्राकृतिक तरीके से श्वसन रोगों का इलाज करता है और यह सुनिश्चित करता है कि फेफड़े कुशलता से कार्य करें। यह श्वसन कोशिकाओं को पोषण भी प्रदान करता है। यह कई औषधीय जड़ी बूटियों से तैयार किया जाता है जो इन बीमारियों के लक्षणों से राहत प्रदान करने में मदद करते हैं।

खुराक
इन स्थितियों से पीड़ित रोगियों को दिन में दो या तीन बार 1 चम्मच या 5 बार स्वास्री प्रावाही का सेवन करना चाहिए। वे 2 चम्मच तक खुराक बढ़ा सकते हैं, यदि लक्षण गंभीर हैं, तो दिन में दो या तीन बार लिया जा सकता है। खुराक को शहद के साथ मिश्रित एक गिलास गर्म पानी के साथ लिया जा सकता है। दवा को भोजन से आधे घंटे पहले या बाद में लिया जाना चाहिए।लेकिन आपको यह हम पहले ही बता देते हैं की कोई भी दवा डॉक्टर के सलाह के बिना खुद से ना ले अन्यथा इसके जिम्मेदार आप स्वयं होंगे।

बाजार में बहुत से लोग नकली बेच रहे है हम आपको Original दवा का लिंक नीचे दे रहे है Amazon से Order कर सकते है –

Patanjali Swasari Syrup Ke Fayde

swasari non fiiii -

सामग्री

Kali Mirch (Black Pepper)
Ikha (Saccharum Officinarium)
Amaltas (Cassia Fistula)
Lishoda (Cordia Dichotoma)
Bhringraj (Eclipta Alba)
Tejpatra (Cinnamomum Tamala)
Sonth (Zingiber Officinale)
Lavang (Syzgium Aromaticum)
Dalchini (Cinnamomum Zeylanicum)
Mulethi (Glycyrrhiza Glabra) और अन्य

Copy

दिव्य स्वसरी के उपयोग एवं फायदे

दमा
अस्थमा फेफड़ों को प्रभावित करने वाली एक पुरानी स्थिति है। यह सांस की तकलीफ का कारण बनता है। यह एक एलर्जी की स्थिति है, जिसका अर्थ है कि लक्षणों को ट्रिगर किया जाता है जब शरीर उन पदार्थों के संपर्क में होता है जिनसे व्यक्ति को एलर्जी है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा अतिरंजित प्रतिक्रिया के परिणामस्वरूप ब्रोंची और ब्रोन्किओल्स में मांसपेशियों के कसना के कारण होता है, जिसके कारण इन वायुमार्गों के माध्यम से हवा का मार्ग श्वास-प्रश्वास तक सीमित रहता है। दिव्य स्वरस प्रवाही वायुमार्गों को शिथिल रखकर इन लक्षणों से राहत प्रदान करने में मदद कर सकता है।

फेफड़ों में संक्रमण
निमोनिया जैसे फेफड़ों के संक्रमण के प्रबंधन में दिव्य स्वरस प्रवाही अत्यधिक प्रभावी हो सकता है। यह विरोधी भड़काऊ और जीवाणुरोधी क्रियाएं पैदा करता है। यह संक्रमण के कारण फेफड़ों में बलगम के उत्पादन को कम करने में मदद करता है। यह फेफड़ों और वायु मार्ग में सूजन और जलन को कम करने में भी मदद करता है।

सामान्य जुकाम
सामान्य जुकाम के लक्षणों से राहत पाने के लिए दिव्य स्वरस प्रवाही का उपयोग किया जा सकता है। यह एक विरोधी भड़काऊ एजेंट के रूप में कार्य करता है और नाक में सूजन और जलन को कम करता है। यह नाक ब्लॉक, छींकने और बहती नाक से भी राहत देता है। इस दवा का उपयोग आम सर्दी के कारण होने वाले सिरदर्द से छुटकारा पाने के लिए भी किया जा सकता है।

ब्रोंकाइटिस
Divya Swasari Pravahi का उपयोग ब्रोंकाइटिस के उपचार में किया जा सकता है। इस दवा द्वारा निर्मित विरोधी भड़काऊ कार्रवाई छाती में सूजन, जलन और बलगम उत्पादन को कम करने में मदद करती है। यह इस स्थिति के कारण छाती में होने वाली खांसी और दर्द को भी कम करता है। यह तीव्र के साथ-साथ क्रोनिक ब्रोंकाइटिस के उपचार में उपयोगी है।

गले में खरास
गले में खराश बहुत परेशानी का कारण बनता है, जो रोगियों की नियमित गतिविधियों को प्रभावित करता है। दिव्य स्वरसरी प्रवाही, गले पर सुखदायक कार्रवाई का उत्पादन करके असुविधा को कम करने में मदद कर सकता है।

पतंजलि दिव्य स्वसरी प्रवाही

swasari non -

साइनसाइटिस
साइनसाइटिस साइनस को प्रभावित करने वाली एक स्थिति है, जो चेहरे की हड्डियों के भीतर खोखले छिद्र हैं। साइनसाइटिस तब होता है जब इन गुहाओं में सूजन या संक्रमण होता है। यह नाक के अवरोध, सांस लेने में कठिनाई, छींकने, नाक बहने और सिरदर्द जैसे लक्षण पैदा करता है।

बाजार में बहुत से लोग नकली बेच रहे है हम आपको Original दवा का लिंक नीचे दे रहे है Amazon से Order कर सकते है –

Patanjali Divya Swasari Pravahi के नुकसान, दुष्प्रभाव और साइड इफेक्ट्स –

जैसा की हम आपको पहले बता दें की यह खबर इंटरनेट से ली गयी है तो अगर साइड इफेक्ट्स की बात करें तो Patanjali Divya Swasari Pravahi का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह-मशविरा जरूर करें।बिना डॉक्टर से सलाह लिए खुद से कुछ ना करें अन्यथा इसके जिम्मेदार आप स्वयं होंगे।

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. News4social इनकी पुष्टि नहीं करता है. यह खबर इंटरनेट से ली गयी है। इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें।

यह भी पढ़े:शरीर में इम्युनिटी पावर कैसे बढ़ाए?