“ये है नया भारत, जहां अपराधियों को भी सम्मान मिलता है” :ओवैसी

ओवैसी
ओवैसी

अयोध्या राम मंदिर का विवाद बहुत पुराना और विवादित था. जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया. जिससे वहां राम मंदिर बनने का रास्ता साफ हो गया. उसके बाद कोर्ट के आदेश के अनुसार एक ट्रस्ट भी बना दिया गया.आज ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने एक नया ट्विट किया जिसमें तंज कसते हुए कहा है कि “ये है नया भारत, जहां अपराधियों को भी सम्मान मिलता है”


दरअसल जो श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट बनाया गया है, महंत नृत्य गोपाल दास को उसका अध्यक्ष बनाया गया है. इसका विरोध करते हुए असदुद्दीन ओवैसी ने ये ट्विट किया. इसमें उन्होंने लिखा कि सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद के विध्वंस को राष्ट्रीय के लिए शर्म की बात बताई थी और जिस ट्रस्ट का गठन किया गया है उसके अध्यक्ष पर बाबरी मस्जिद को गिराने का आरोप है.

आपको बताना चाहेंगें कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि यहां राम मंदिर बनाया जाए तथा इसके लिए एक ट्रस्ट का भी गठन करने का आदेश दिया. सरकार ने उस ट्रस्ट का गठन कर महंत नृत्य गोपाल दास को उसका अध्यक्ष बनाया. उन पर बाबरी मस्जिद को गिराने का आरोप लगाया गया था. जिस पर नाराजगी जताते हुए ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने ये ट्विट किया.

यह भी पढ़ें : Nirbhaya Case: फांसी से बचने के लिए अब चुनाव आयोग में अर्जी
बाबरी मस्जिद विध्वंस –
30-31 अक्टूबर 1992 को धर्मसंसद में कारसेवा की घोषणा की गई. नवंबर में यूपी के CM कल्याण सिंह ने अदालत में मस्जिद की हिफाजत करने का हलफनामा दिया. ये विवाद में ऐतिहासिक दिन के तौर पर याद रखा जाता है, इस दिन हजारों की संख्या में कारसेवकों ने अयोध्या पहुंचकर बाबरी मस्जिद को ढहा दिया. अस्थाई राम मंदिर बना दिया गया. इसके बाद ही पूरे देश में चारों ओर सांप्रदायिक दंगे होने लगे. इसमें करीब 2000 लोगों के मारे गए थे.