विराट की बचकानी आक्रामकता और बुमराह की नासमझ कप्तानी, तभी तो हार के मुहाने पर खड़ा भारत

0
158
विराट की बचकानी आक्रामकता और बुमराह की नासमझ कप्तानी, तभी तो हार के मुहाने पर खड़ा भारत

विराट की बचकानी आक्रामकता और बुमराह की नासमझ कप्तानी, तभी तो हार के मुहाने पर खड़ा भारत

नई दिल्ली: भारत ने जब फाइनल टेस्ट के चौथे दिन इंग्लैंड (India vs England Final Test) के सामने 378 रन का मुश्किल लक्ष्य रखा था तो उसकी जीत लगभग तय मानी जा रही थी। क्योंकि इंग्लैंड ने कभी भी चौथी इनिंग्स में इतना बड़ा लक्ष्य हासिल नहीं किया था और न ही एजबेस्टन पर ऐसा कोई टीम कर सकी थी। मतलब पलड़ा पूरी तरह से भारत के पक्ष में झुक चुका था, लेकिन आज पांचवें और आखिरी दिन उसके और जीत के बीच सिर्फ 119 रन का फासला है। भारत की इस दुर्दशा के दो बड़े कारण हाथ से मैच कैसे, कब और क्यों फिसला इसके कई कारण हो सकते हैं। मगर जो दो बड़ी वजहें नजर आ रहीं हैं, वो हैं विराट कोहली की बचकानी आक्रामकता और बुमराह की नासमझ कप्तानी।

कप्तानी पर फिट नहीं बैठे बुमराह
मैच में भले ही जसप्रीत बुमराह बल्ले और गेंद दोनों के साथ कमाल करते नजर आए, लेकिन बतौर कप्तान वह पूरी तरह फेल रहे। कई अहम मौकों पर उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे। चाहे गेंदबाजी में बदलाव हो या फिर फील्ड सेटिंग बुमराह की बड़ी गलती नजर आती है। चौथी पारी में जब इंग्लैंड लक्ष्य का पीछा करने उतरी तो बॉलर्स दबाव नहीं बना पाए। इंग्लिश ओनपर्स आसानी से रन बनाते चले गए। इजी सिंगल्स लेते रहे। देखते ही देखते ओपनर जैक क्राउली और एलेक्स लीस के बीच पहले विकेट के लिए 107 रन की पार्टनरशिप हो गई। बाद में बेयरस्टो और रूट पर भी कोई दबाव नजर नहीं आया। आक्रामक और सही फील्ड पोजिशन की कमी दिखी।

ले डूबी कोहली की अति आक्रामकता?
टीम को चीयर करना। खिलाड़ियों में जोश भरना। विरोधी खिलाड़ियों को हेल्दी स्लेज करना, खेल का हिस्सा है। मगर अति किसी भी चीज की ठीक नहीं। फाइनल टेस्ट के दौरान एक-दो नहीं ऐसे कई मौके दिखे जब कोहली की अति आक्रामकता टीम के लिए घातक साबित हुई। पहली पारी के दौरान विराट और बेयरस्टो के बीच कहासुनी हुई। शानदार फॉर्म में चल रहे जॉनी ने आपा नहीं खोया और दमदार शतक से अपनी टीम को मैच में वापसी करवाई। दूसरी पारी के दौरान एलेक्स लीस अर्शशतक बना चुके थे। टी-सेशन के दौरान विराट उन्हें भी उकसाते दिखे। मैच जब दोबारा शुरू हुआ तब लीस रन आउट भी हो गए, जश्न में कोहली जमकर झूमे। उनके इस सेलिब्रेशन ने ही एक तरह से इंग्लैंड को नींद से जगाया और जॉनी बेयरस्टो-जो रूट मैच विनिंग पार्टनरशिप कर रहे हैं।


ऋषभ पंत भी सवालों के घेरे में

खेल के चौथे दिन जब कप्तान बुमराह बाहर गए तब उपकप्तान ऋषभ पंत जिम्मेदारी संभाल रहे थे। 31वें और 32वें ओवर में भारतीय टीम ने 2 DRS गंवा दिए। ये दोनों ही जो रूट के खिलाफ थे और अब भारत के पास सिर्फ एक DRS बचा हुआ है। अगर आज जरूरत पड़ती है तो टीम इंडिया उसे लेने में हिचकिचाएगी और 10 बार सोचने के बाद ही फैसला लेगी। क्योंकि अगर वह आखिरी DRS भी हाथ से निकल गया तो बाद में फैसले उसके खिलाफ भी जा सकते हैं और ऐसे में उसे अंपायर की हार फैसले से सहमत होना पड़ेगा।

बेयरस्टो के बवाल से फजीहत, अब कोहली की टेस्ट टीम से होगी छुट्टी?

Source link