बीसीसीआई की सिफारिश से विराट कोहली को मिल सकता है ये बड़ा पुरस्कार

0

भारतीय क्रिकेट टीम के वर्तमान कप्तान विराट कोहली आजकल अच्छी फॉर्म में चल रहे हैं। इस साल के आईपीएल सीज़न में वो ऑरेंज कैप की दौड़ में हैं। बता दें कि आईपीएल में सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी को ऑरेंज कैप मिलती है। विराट का बेहतरीन खेल प्रदर्शन देखते हुए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड(बीसीसीआई) ने उन्हें राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार देने की सिफारिश की है।

लगातार अच्छा प्रदर्शन करने के कारण बीसीसीआई ने दूसरी बार विराट कोहली का नाम खेल रत्न के लिए प्रस्तावित किया है। इससे पहले उनका नाम 2016 में भी राजीव गांधी खेल रत्न के लिए भेजा गया था, लेकिन तब सरकार ने रियो ओलिंपिक पदक विजेता पीवी सिंधु और साक्षी मलिक के अलावा दीपा कर्माकर व शूटर जीतू राय को पुरस्कार दिया था।

इसके अलावा BCCI  ने अपने ज़माने में दिग्गज क्रिकेटर रहे लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर को ध्यान चंद लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से नवाज़ने की सिफारिश की है। जानकारी के मुताबिक शिखर धवन और महिला क्रिकेटर स्मृति मंधाना के नाम को अर्जुन अवॉर्ड के लिए भेजा गया है।

प्रशासकों की समिति के प्रमुख विनोद राय ने द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए द्रविड़ के नामांकन की पुष्टि की है। राय के मुताबिक, हमने विभिन्न वर्गों में सरकार को कई नामांकन भेजे हैं। राहुल द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए बीसीसीआई द्वारा नामित है।’’ उल्लेखनीय है कि इस साल द्रविड़ के मार्गदर्शन में अंडर-19 टीम ने विश्व कप जीता जिसके कारण उनके नाम की सिफारिश इस पुरस्कार के लिए की गई है। वहीं उनके ही मार्गदर्शन में 2016 में भी टीम फाइनल में पहुंची थी। वह भारत-ए टीम के भी कोच हैं और जूनियर तथा सीनियर क्रिकेट के बीच सेतु का काम कर रहे हैं।

यह दूसरा मौका है जब भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने राजीव गांधी खेल पुरस्कार के लिए किसी क्रिकेटर का दोबारा नाम भेजा हो। इससे पूर्व राहुल द्रविड़ का नाम दो बार प्रस्तावित किया गया था। हालांकि दोनों बार उन्हें अवॉर्ड हासिल नहीं हो सका था।

गौरतलब है कि बीसीसीआई ने द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए नामांकन भेजना बंद कर दिया था क्योंकि कभी-कभी कई कोच खिलाड़ी की सफलता का श्रेय लेने आगे आ जाते थे।

समाचार एजेंसी के मुताबिक, बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘ऐसा तब हुआ जब भारत के एक पूर्व सलामी बल्लेबाज़ ने दो नामांकन पर हस्ताक्षर किए जहां कोचों ने दावा किया कि खिलाड़ी ने उनके मार्गदर्शन में काम किया है। इसके बाद से हमने नामांकन भेजना बंद कर दिया।’’

जहां तक गावस्कर का सवाल है तो भारतीय क्रिकेट में एक खिलाड़ी के रूप में उनके योगदान को नकारा नहीं जा सकता। सामान्य तौर पर ध्यानचंद पुरस्कार उन्हें दिया जाता है जिन्हें अपने खेलने के दौरान अर्जुन पुरस्कार नहीं मिला हो, हालांकि गावस्कर को अर्जुन पुरस्कार मिल चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 2 =