अमेरिका ने व्यापार के क्षेत्र में भारत को दिया बड़ा झटका

0
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प

मोदी सरकार के कार्यकाल को शुरू हुए अभी दो दिन भी नहीं हुए है उससे पहले ही सरकार के लिए बुरी ख़बर आयी है। विदेश नीति में भारत को बहुत बड़ा झटका लगा है। अमेरिका ने भारत के साथ वरीयता के आधार पर ड्यूटी फ्री प्रोग्राम को समाप्त कर दिया है। नए विदेश मंत्री बने एस जयशंकर के लिए इस नीति पार पाना आसान नहीं होगा। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भारत के साथ संयुक्त राज्य अधिमान्य व्यापार प्रोग्राम को समाप्त कर दिया। व्हाइट हाउस की घोषणा के अनुसार, भारत के साथ व्यापार वरीयता कार्यक्रम 5 जून, 2019 से समाप्त हो जाएगा।

क्या होता है GSP?

जेनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रिफ्रेंसेज (GSP) एक अमेरिकी व्यापार कार्यक्रम है जो कि विकाससील देशों के उत्पादों को अमेरिका में ड्यूटी फ्री एंट्री देता है। अर्थात अमेरिका के जीएसपी कार्यक्रम में शामिल देशों को विशेष तरजीह दी जाती है। अमेरिका उन देशों से एक तय राशि के आयात पर शुल्क नहीं लेता है।

इसके साथ संयुक्त राज्य अमेरिका ने प्रमुख GSP व्यापार कार्यक्रम के तहत लाभकारी विकासशील देश के रूप में भारत के लाभ को समाप्त कर दिया है। इस विशेष नियम के तहत उभरते देशों को ड्यूटीज फ्री संयुक्त राज्य अमेरिका में माल निर्यात करने की अनुमति देता था।

मार्च में डोनाल्ड ट्रम्प ने संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा भारत के बाजार में पहुंच की कमी के बारे में दशकों पुराने जेनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रिफ्रेंसेज (GSP) कार्यक्रम से भारत को हटाने के अपने इरादे की घोषणा की थी।

ट्रम्प ने शुक्रवार को एक बयान में कहा, “मैंने निर्धारित किया है कि भारत ने संयुक्त राज्य को आश्वासन नहीं दिया है कि भारत अपने बाजारों को न्यायसंगत और उचित पहुंच प्रदान करेगा।”

ज्ञात हों कि अमेरिकी कांग्रेस के 24 सदस्यों ने प्रशासन को 3 मई को एक पत्र भेजा जिसमें आग्रह किया गया कि वह GSP के लिए भारत की पहुंच को समाप्त न किया जा जाए।