‘चमत्कारी’ पेड़ को छूने से रोकने पर मचा बवाल

0
megic
'चमत्कारी' पेड़ को छूने से रोकने पर मचा बवाल

कतनी अजीब बात है कि लोग आज के दौर में भी अंधविश्वास जैसी चीजों पर विश्वास करते है. और उसके लिए अपने जीवन में कुछ भी करने के लिए तैयार रहते है. ऐसा ही एक मामला मघ्य प्रदेश का है.

मध्य प्रदेश में पुलिस को बीते बुधवार को अजीब परिस्थितियों का सामना करना पड़ा गया. जब एक पेड़ को छूने के लिए लोगों को भीड़ जमा हो गई. बेहत हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि पुलिस भी इस भीड़ को वहां पर जाने से रोक रही थी. जिसपर लोगों का गुस्सा फूटा और लोगों ने पुलिस पर पथराव करना शुरू कर दिया.

इसी बीच बनखेड़ी थाने के प्रभारी एस.एल. झारिया सहित 12 पुलिसकर्मी भी घायल हो गए. वहां पर मौजूदा भीड़ ने कई वाहनों और एक मोटरसाइकिल को भी आग के हवाले कर दिया. खबरों के अनुसार बताया जा रहा है कि राज्य के होशंगाबाद जिले के नयागांव में एक चमत्कारी पेड़ है. जिसे छूने से बीमारियों को दूर किया जा सकता है.

इसी विश्वास के चलते पेड के आस-पास बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए. जब वहां पर स्थिति काफी बिगड़ती नजर आई तो पुलिस ने भीड़ को पेड़ से दूर रहने को कहा. जिसके बाद वहां मौजूदा लोगों ने पुलिस की बात को मानने से इंकार कर दिया और वह पथराव करने लगी.

इस मामले को लेकर बनखेड़ी पुलिस ने कहा है कि “पिपरिया से लगभग 15 किलोमीटर दूर नया गांव में एक महुआ का पेड़ है, जिसे स्थानीय लोग चमत्कारी बता रहे हैं. उनका दावा है कि इसे छूने से बीमारी दूर हो जाती है. इतना ही नहीं इसी अंधविश्वास के चलते यहां पिछले कुछ दिनों से भारी भीड़ जमा हो रही थी. प्रशासन ने हालातों पर काबू रखने के लिए क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी गई है और उस पेड़ को छूने पर भी रोक लगाी है.

यह भी पढ़ें : महिला की राम मंदिर के लिए ऐसी आस्था कि पक्ष में फैसला आने पर तोड़ा 27 साल का…

बता दें कि पुलिस ने कहा है कि बीती बुधवार को भारी संख्या में लोग जमा हुए, उन्हें जब महुए के पेड़ के पास जाने से रोका गया, तो भीड़ बेकाबू हो गया. और पुलिस पर हमला करना शूरू कर दिया. जिसमें कुछ पुलिस वाले गंभीर रूप से घायल हो गए है. यहीं नहीं पूरे इलाके में पुलिस बल को तैनाद कर दिया है.