UP Politics: दिनेश खटीक के इस्तीफे पर अखिलेश यादव ने समझाई क्रोनोलॉजी, योगी सरकार पर बड़ा हमला

0
134

UP Politics: दिनेश खटीक के इस्तीफे पर अखिलेश यादव ने समझाई क्रोनोलॉजी, योगी सरकार पर बड़ा हमला

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janata Party) के भीतर से उठे विवाद पर करारा हमला बोला है। उन्होंने योगी आदित्यनाथ सरकार को घेरते हुए पूरे मामले की क्रोनोलॉजी अपने ही अंदाज में समझा दी है। उन्होंने उत्तर प्रदेश में चल रही भाजपा सरकार पर भ्रष्टाचार और कुशासन का आरोप लगाया। अखिलेश यादव के आरोपों ने इस मामले को अलग ही रूप दे दिया है। अभी तक समाजवादी पार्टी और विपक्षी गठबंधन के बीच विवादों पर भाजपा नेता तंज कसते नजर आते थे। अब बारी विपक्ष की है।

यूपी के जलशक्ति राज्य मंत्री दिनेश खटीक के केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को भेजे गए इस्तीफे के मामले को अखिलेश यादव ने जोरदार तरीके से उठाया है। उन्होंने ट्वीट में लिखा कि यूपी भाजपा सरकार में भ्रष्टाचार और कुशासन की क्रोनोलॉजी समझिए। पहले लोक निर्माण विभाग के मंत्रालय में विद्रोह। फिर स्वास्थ्य मंत्रालय में विद्रोह। अब जल शक्ति मंत्रालय में विद्रोह। जनता पूछ रही है, उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ईमानदारी से बताए, अब अगली बारी किसकी है? अखिलेश यादव के इस हमले ने पूरे विवाद को गरमा दिया है।

बुलडोजर भी कसा तंज
अखिलेश यादव ने योगी सरकार के अपराधियों और माफियाओं के खिलाफ चलने वाले बुलडोजर पर भी करारा तंज कसा है। उन्होंने कहा कि कभी-कभी बुलडोजर उलटा भी चल जाता है। दिनेश खटीक के इस्तीफा प्रकरण के खिलाफ उनका यह तंज माना जा रहा है। अखिलेश ने कहा कि जहां मंत्री होने का सम्मान तो नहीं, दलित होने का अपमान मिले, ऐसी भेदभावपूर्ण भाजपा सरकार से त्यागपत्र देना ही अपने समाज का मान रखने के लिए उचित उपाय है। कभी-कभी बुलडोजर उलटा भी चलता है।

अमित शाह को पत्र लिखकर दिया है इस्तीफा
दिनेश खटीक ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर अपने इस्तीफे की पेशकश की है। खटीक ने अपने पत्र में कहा है कि ईमानदारी और सच्चाई के साथ देश के प्रधानमंत्री जी ने दलितों और पिछड़ों को सम्मान के साथ भाजपा में लाने का प्रयास किया है और उन्ही के आदर्शों के कारण दलित समाज और पिछड़ा समाज आज पूरी तरह से भाजपा के साथ खड़ा है लेकिन उत्तर प्रदेश में सरकार के अन्दर अधिकारीगण उतना ही दलितों का अपमान कर रहे है।

खटीक ने अपने इस्तीफे वाले पत्र में कहा कि मैं दलित समाज से हूं और दलित समाज मुझसे पूरी तरह से जुड़ा हुआ है और यह पूरी तरह से मुझसे अपेक्षा रखता है कि उसके साथ अन्याय न हो पाए। जब अपने साथ हो रहे अन्नाय को लेकर अधिकारियों को अवगत कराता हूं तो अधिकारी उस पर कोई कार्यवाही नहीं करते हैं जिससे मेरी ही नहीं बल्कि पूरे दलित समाज का अपमान हो रहा है। उन्होंने मान-सम्मान न मिलने का भी मामला उठाया है।

Copy

अखिलेश के बयान पर गरमाएगी राजनीति
अखिलेश यादव के बयान पर राजनीति गरमानी तय है। दिनेश खटीक के इस्तीफे की खबर और उनकी चिट्‌ठी मीडिया में आने के बाद से पार्टी अभी बैकफुट पर नजर आ रही है। ऐसे में विपक्षी दलों को हमले का मौका मिला है। खटीक के उठाए गए बिंदुओं पर विपक्ष योगी सरकार को घेरने में जुट गई है। सपा की ओर से दलितों के सम्मान से लेकर भ्रष्टाचार पर योगी सरकार के लगाम तक के मामलों पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं।

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News