टीम में अंदर- बाहर किए जाने से गिरा मनोबल : क्रिकेटर उमेश यादव

0

तेज गेंदबाज उमेश यादव ने कहा कि भारतीय टीम से कुछ मैचों के बाद अंदर-बाहर किए जाने से उनका मनोबल गिरा जिससे उनकी फॉर्म में गिरावट आई है. जिसे मौजूदा इंडियन प्रीमियर लीग में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है.

उमेश यादव भारत की विश्व कप टीम का हिस्सा नहीं हैं. साथ ही उन्होने कहा है कि उनके लिए कुछ भी सही नहीं हो रहा है और बढ़ते दबाव से उनकी गेंदबाजी की सटीकता और लय पर असर पड़ा.

उमेश ने कहा, ‘हर कोई कह रहा है कि मैं अच्छी गेंदबाजी नहीं कर रहा हूं. पिछले दो वर्षों में मैंने घरेलू स्तर पर सभी प्रारूपों में खेलना जारी रखा लेकिन इसके बावजूद मैंने इतने वनडे या टी-20 मैच नहीं खेले. मुझे सिर्फ दो या तीन मैचों के लिए चुना जाता और फिर टीम से बाहर कर दिया जाता.’

उमेश यादव का कहना है कि ‘मैं अपना सर्वश्रेष्ठ नहीं दे रहा लेकिन ऐसा नहीं है. ऐसा हर तेज गेंदबाज के लिए होता है. साथ ही कहा कि इसकी व्याख्या करना मुश्किल है क्योंकि ये हर गेंदबाज के जीवन का हिस्सा है. कभी कभार हमारे लिए दिन अच्छा या फिर बुरा होता है. मुझे लगता है कि ये ऐसा दौर है जहां चार से छह महीनों से मैं इतनी सटीक गेंदबाजी नहीं कर पा रहा हूं.’