माल्या आएगा भारत, ब्रिटेन ने दी मंज़ूरी

0

भारतीय बैंकों को करोड़ों का चूना लगाकर विदेश फ़रार हुआ विजय माल्या जल्द ही भारतीय एजेंसियों की गिरफ़्त में होगा। 2016 से माल्या ब्रिटेन में है। तक़रीबन 2 महीने पहले लंदन की एक निचली अदालत ने माल्या के प्रत्यर्मण को मंज़ूरी दी थी जिसके बाद ब्रिटेन के गृहमंत्री को अदालत के फ़ैसले को वैधानिक मंज़ूरी देनी थी। ब्रिटेन के गृहमंत्री साजिद जाविद ने माल्या के प्रत्यर्पण को मंज़ूरी दे है जिसके बाद माल्या को भारत लाना आसान होगा।

क्या है पूरा मामला ? आसान भाषा में समझिए।

माल्या पर भारतीय बैंकों का 9 हज़ार करोड़ से ज़्यादा का कर्ज़ बकाया है और उन्हें डिफॉल्टर घोषित किया जा चुका है। शराब कारोबारी विजय माल्या ने पिछले साल दिसंबर में ट्वीट करते हुए कहा था कि “वह भारतीय बैंकों का सारा पैसा चुकाने को तैयार हैं लेकिन, वह ब्याज नहीं दे सकता। साथ ही उन्होंने कहा था कि भारतीय मीडिया और भारतीय राजनेताओं ने उनके साथ पक्षपात किया है”। इससे पहले उन्होंने बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिक दायर करके कोर्ट से ये गुहार लगाई थी कि उन्हें आर्थिक अपराध में भगोड़ा घोषित करने वाली प्रर्वतन निदेशालय की कार्रवाई को रोका जाए मगर, बॉम्बे हाईकोर्ट ने उन्हें को राहत नहीं दी। जिसके बाद माल्या ने बॉम्बे हाईकोर्ट के फ़ैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी मगर, सुप्रीम कोर्ट से भी माल्या को कोई राहत नहीं मिली और अदालत ने उनकी याचिका ख़ारिज कर दी। ईडी ने अपनी याचिका में माल्या को आर्थिक अपराध में भगोड़ा घोषित करने की मांग की थी। ज़रूरी बात ये है कि अगर माल्या को आर्थिक अपराध में भगोड़ा घोषित किया जाता है तो उसकी संपत्ति तत्काल प्रभाव से ज़ब्त कर ली जाएगी।