महोबा- 2500 एकड़ भूमि पर जनसहयोग से बन रहीं आदर्श गोशाला, डीएम ने जगह का लिया जायजा

0

महोबा: किसानों को अन्ना पशुओं की समस्य से छुटकारा दिलाने और गोवंश के बेहतर रख-रखाव के लिए जैतपुर विकास खंड में ग्राम बघौरा के 2500 एकड़ जंगल को आदर्श गोशाला में परिवर्तित करने को लेकर जिलाधिकारी सहदेव द्वारा जनसहयोग से जिले में एक अनोखी पहल शुरू की है.

कौन-कौन कर रहा है सहयोग

इस पहल को समाजवादी, प्रबुद्धजन, जन प्रतिनिधि, व्यवसायी, व्यापारी और ग्राम प्रधान पूरी तरीके से सहयोग कर रहें है. बीते दिन यानि रविवार को डीएम ने गोशाला का निरीक्षण का आदेशा भी दिया.

गोशाला के लिए 30 लाख रूपये का प्रावधान करवाया गया

बता दें कि शासन द्वारा गोशाला के लिए 30 लाख रूपये का प्रावधान करवाया गया है. वहीं बघौरा गोशाला का क्षेत्रफल अधिक होने के कारण उसकी बाउंड्री, तारबाड़ी का खर्चा करीब एक करोड़ रूपये तक आँका गया है. अन्ना पशुओं की देखभाल के लिए डीएम ने तमाम अधिकारियों और कर्मचारियों का एक दिन का वेतन लेकर बाउंड्री निर्माण का काम शुरू किया है.

लोगों का मिला सहयोग

किसानों की समस्या पर निजात करने के लिए जिलाधिकारी द्वारा लिए गए संकल्प में लोगों का पूरा-पूरा सहयोग मिला रहा है. जिलाधिकारी के इस अनूठी कार्य के लिए डीएवी के पूर्व प्राचार्य और समाजसेवी शिवकुमार गोस्वामी ने अपनी एक महिने की पेंशन में करीब 40 हजार दान किए है. उन्होंने इस गौशाला महायज्ञ में दान के दौरान सभी प्रबुद्धजनों से इस महायज्ञ में अंशदान कर जिला प्रशासन की सहायत करने की गुजारिश की है.

यह भी पढ़ें: महोबा- सीडीओ कार्यालय में हुई ऊर्जा लैंप वितरण की बैठक, 27 हजार छात्रों को मिलेगा सौर ऊर्जा लैंप

रामकुमार सिंह ने 50 हजार रूपये गौशाला के इस काम के निर्माण में दान किए

ये ही क्रेशर व्यवसायी रामकुमार सिंह ने 50 हजार रूपये गौशाला के इस काम के निर्माण में दान किए है. रविवार को डीएम ने गौशाला निर्माण का निरीक्षण भी किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि लोगों द्वारा दिए गए इस दान के एक-एक मूल्य को जनपद से किसानों को अन्ना जानवरों से निजात दिलाने के खर्चा  में किया जाएगा. इसमें किसी भी प्रकार की धोखाधड़ी एवं बेईमानी जाने पर संबंधित व्यक्ति को माफ़ नहीं किया जाएगा. इस कार्य में सख्त निगरानी रखी गई है ताकि कोई लापरवाही न हो.