औरंगाबाद में एमआयएम पार्षदों का पद हमेशा के लिए रद्द किया

0

महाराष्ट्र के औरंगाबाद (संभाजीनगर) की महानगर पालिका में आज एमआयएम के दो पार्षदों को मेयर ने निलंबित कर दिया | इन पार्षदों ने महानगर पालिका की सर्वसाधारण सभा में बहोत हंगामा किया | मेयर का राजदंड भी छीनने की कोशिश की |

पानी के मुद्दे को लेकर इन पार्षदों में सभा में जमकर हंगामा किया | जो सुरक्षाकर्मी उनको शांत करने गए उन्हें भी इन पार्षदों ने पीटा | हंगामा करने वाले दोनों पार्षदों का निलंबन हो गया है |

औरंगाबाद के मेयर भगवान घडामोड़े का कार्यकाल ख़तम होने को है | यह उनकी आखरी सर्वसाधारण सभा थी | शहर में नियमित पानी की सप्लाय को लेकर सर्वदलीय पार्षद सवाल पूछ रहे थे | नियमित पानी की सप्लाय हो इस की भी मांग ये पार्षद कर रहे थे |

इसके बाद वहा हंगामा शुरू हो गया | जिस तरह पानी पट्टी वसूल करते है, उसी तरह पानी भी मिलना चाइए ऐसा शिवसेना ने सूचित किया | इसपर एमआयएम ने विरोध जताया | फिर शिवसेना और एमआयएम के बीच जुबानी जंग छिड़ गयी | इसके बाद एमआयएम के पार्षदों ने वहा रखी खुर्सियो को फेंकना शुरू किया |

इसी दौरान मेयर सुरक्षा कर्मियों के पास थे तब उनके सिर में एक खुर्सी आ कर लगी | इसके बाद सय्यद मतीन और जफ़र बिल्डर का पद हमेशा के लिए रद्द किया गया |

ये दो पार्षदों ने वंदे मातरम बोलने पर भी विरोध किया था | आज के हंगामे के बाद पुलिस को बुलाया गया और उन दोनों को बहार निकाला गया | उसके बाद कामकाज फिर शुरू हुआ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 − fifteen =