ऐसे गुणों वाली लड़कियों में होती है अच्छी पत्नी बनने की झलक

0
A good wife
A good wife

हर आदमी अपनी ज़िन्दगी में एक जीवनसाथी चाहता है। इसके लिए समाज में वैवाहिक जीवन की परंपरा है। सुखद वैवाहिक जीवन जीने के लिए हर आदमी एक अच्छी पत्नी की चाहत रखता है। भारतीय शास्त्रों में श्लोक के जरिये कुछ लड़कियों के बारें में ऐसे गुण बताये गए हैं जो अगर किसी लड़की में वो गुण होते हैं तो उसमे आगे चलकर एक अच्छी पत्नी बनने की झलक होती है।

शास्त्रों में पत्नी को पति का आधा अंग माना गया है। इसीलिए कहा जाता है इंसान तब तक अधूरा है जब उसका जीवनसाथी उसे नहीं मिल जाता है। इस बारें में गरुण पुराण के बारे में बताया गया है। गरुण पुराण में एक श्लोक है जिसमे अच्छी पत्नी के गुण बताये गए हैं। आइए जानते हैं क्या है वह श्लोक-

यह श्लोक है –

‘सा भार्या या गृहे दक्षा सा भार्या या प्रियंवदा। सा भार्या या पतिप्राणा सा भार्या या पतिव्रता’ .. आइये अब श्लोक के हर एक अक्षर का मतलब जानते हैं। इस श्लोक में गृहे दक्षा का मतलब वह वह स्त्री जो घर के काम करने में दक्ष हो। मसलन भोजन पकाने, साफ़-सफाई, गृह सज्जा, कपड़े बर्तन आदि में माहिर होना गृहे दक्षा कहलाता है। इस गुण वाली स्त्री अगर घर में आती है घर में सुख शांति बनी रहती है।

इस श्लोक में प्रियंवदा एक शब्द आया है जिसका मतलब होता है वह स्त्री जो बहुत मीठा बोलती हो, जो अपनी वाणी से सबको मोहित कर लेती हो। ऐसी स्त्री का घर में होने से कभी भी परिवार में क्लेश नहीं होता है।

इसके अलावा इस श्लोक में एक शब्द आया है पतिप्राणा- इस शब्द का मतलब होता है वह स्त्री जो अपने पति की हर बात ध्यान से सुने और उसका पालन करें। ऐसी स्त्री कभी भी अपने पति को चोट पहुंचाने वाला काम नहीं करती है। ऐसी स्त्रियों के लिए पति भी अपनी जान न्योछावर करने को तैयार रहते हैं।

पतिव्रता शब्द का मतलब लगभग सभी जानते हैं। जो स्त्री पतिव्रता होती है उसका दाम्पत्य जीवन काफी सुखमय रहता है। पतिव्रता स्त्री अपने पति के अलावा किसी गैर मर्द के बारें में नहीं सोचती हैं। पतिव्रता स्त्री पति को बल देती है इसका फल उन्हे आगे चलकर मिलता है।

यह भी पढ़ें: इन 7 तरीकों से पहचाने कि सामने वाला सच बोल रहा है या झूठ

उपरोक्त बताये गए गुणों वाली पत्नी मिलने से आदमी का जीवन काफी सुखमय हो जाता है उसे इस मृत्यलोक पर भी स्वर्ग जैसा आनंद मिलता है। इसीलिए ऐसी गुणों वाली स्त्रियां जिसके पास हो उसे अपने को स्वर्ग का राजा अर्थात इंद्र समझना चाहिए।