राजस्थान में लुटेरी दुल्हन का आतंक विधानसभा तक पहुंचा

चोर, डकैतों, बदमाशों या गैंगस्टर्स से परेशान होते हुये लोगों को तो आपने बहुत देखा है. लेकिन कोई दुल्हन अपनी शादी पर ही डकैत बन जाए तो ये बेहद विस्मित करने वाला मुद्दा बन जाता है. राजस्थान में पैसों को लेकर लोगों की ललक इतनी ज्यादा बढ़ गयी है, की अब वो शादी जैसे पवित्र बंधन का इस्तेमाल भी लूटपाट जैसे जघन्य अपराध के लिए करने लगे हैं. राजस्थान में एक लड़की का लड़के से शादी करना और फिर सुहागरात में लूटपाट करने का एक ताजा मामला सामने आया है.

देश के सबसे बड़े क्षेत्रफहल वाले राज्य राजस्थान में कुछ दिन पहले एक शादी हुई थी. लड़की ने अपने माता-पिता की रजामंदी से लड़का पसंद किया था, और उसके कुछ दिन बाद बीते रविवार को कुशलता से दोनों का विवाह भी संपन्न हो गया. लेकीन विवाह के घर में खुशियों के बजाये कोहराम मच गया. इस शादी के पीछे लड़की की सोची-समझी साज़िश थी. शादी होते ही सुहागरात में मौका देखकर लड़की ने चुपके से घर की अलमारियों के ताले तोड़े और सोना-चांदी के जेवरात तथा कुछ कीमती सामान लेकर फरार हो गयी.

प्रदेश में ऐसे कितने मामले हैं

हैरान करने वाली बात ये है कि राजस्थान में इससे पहले भी दुल्हन द्वारा लूट-पाट करने के १०३ मामले सामने आ चुके हैं. जिसके तहत पुलिस ने इस तरह की घटनाओं की जानकारी मिलते ही विभिन्न थानों में मुक़दमे दर्ज किए थे. लेकिन आश्चर्य की बात है ये है कि पुलिस अब तक किसी भी केस में कोई ख़ास कामयाबी हासिल नही कर पायी है. ये भी पता लगाना मुश्किल है कि ये लोग किसी ग्रोह का हिसा हैं या फिर पैसा कमाने के लिए अलग-अलग लोग एक जैसा रास्ता अपना रहे हैं.

अब इन लुटेरी दुल्हनों का आतंक इतना ज्यादा बढ़ गया है कि ये मामला बुधवार को राजस्थान की विधानसभा में भी उठा. निर्दलीय विधायक नंदकिशोर महरियाने ने गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया के साथ लुटेरी दुल्हन के मुद्दे पर विचार-विमर्श किया. विधायक नन्द किशोर ने गृह मंत्री से सवाल भी किये. गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने लिखित जबाव में बताया कि दलालों के जरिये दूसरे प्रदेशों से लड़कियां शादी करने के लिए यहां लाई जाती हैं. कटारिया ने ये भी बताया कि इन घटनाओं में दुल्हनें अब तक दो करोड़ से अधिक की नकदी सहित जेवरात लूटकर ले गई थी.

बता दें कि शादी का झांसा देकर परिवारों को लूटने वाली 57 लड़कियों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है, लेकिन, 46 दुल्हनें अभी तक गिरफ्त से दूर है.