किसे कहा जाता है भारत का सबसे बड़ा गद्दार

भारत में जब भी धोखे की या गद्दारों की बात चलती है तो जयचंद एक ऐसा नाम जो शायद सबने सुना ही होगा. लेकिन आज हम आपको बताएगें कि जयचंद को गद्दार क्यों कहा जाता है ? जयचंद कौन था ?

जयचंद एक राजा था. जो कन्नौज राज्य पर राज करता था. ये महाराजा विजयचन्द्र का पुत्र था. अगर आज भी किसी को धोखेबाज बोलना हो या गद्दार तो उसकी तुलना जयचंद से ही जाती है. एक मुहावरा भी है कि “जयचंद तुने देश को बर्बाद कर दिया गैरों को लाकर हिंद में आबाद कर दिया.”
ऐसा कहा जाता है कि जयचंद ने दिल्ली की सत्ता पाने के लिए मोहम्मद गौरी का साथ दिया जिस कारण पृथ्वीराज चौहान को हार का सामना करना पड़ा. मोहम्मद गौरी ने युद्ध जीतने के बाद जयचंद को भी मौत के घाट उतार दिया. जयचंद को गद्दार कहने का एक कारण ये भी है कि पृथ्वीराज चौहान को धोखा देने के बाद मोहम्मद गौरी ने अपने साम्राज्य का प्रसार किया तथा तब से भारत में इस्लामिक आक्रमणकारी हावी हो गए.


दरअसल पृथ्वीराज और जयचंद की पुरानी दुश्मनी बहुत पुरानी थी, दोनों के मध्य युद्ध भी हो चुके थे. फिर भी पृथ्वीराज ने संयोगिता से शादी की और वह जयचंद का दामाद बन गया था.

यह भी पढ़ें: सांप्रदायिक रंग को बढ़ावा देता ‘Anti or Pro CAA’

ये भी कहा जाता है कि जयचंद ने ही मुहम्मद ग़ोरी को भारत पर आक्रमण करने के लिए आमन्त्रित किया था, लेकिन इसकी सत्यता का कोई प्रामाणिक आधार नहीं है; इस कारण जयचदं पर गद्दार होने का आरोप लगाना भी प्रमाणिक नहीं है. ये तो सत्य है कि जब मोहम्मद गौरी और पृथ्वीराज चौहान के बीच युद्ध हुआ तब जयचंद ने पृथ्वीराज चौहान का साथ नहीं दिया. लेकिन जब भी गद्दार की बात आती है जयचंद का नाम सबसे पहले लिया जाता है.