तंत्र-मंत्र के नाम पर ठगे 48 लाख, न घर का छोड़ा न घाट का

0
tantra-mantra

तंत्र-मंत्र के नाम पर ठगे 48 लाख, न घर का छोड़ा न घाट का

रामनगर। एक शातिर व्यक्ति ने अपने साढ़ू के साथ मिलकर वृद्ध दम्पत्ति से तंत्र-मंत्र के नाम पर 48 लाख का चूना लगा दिया। इतना ही नहीं इस व्यक्ति ने दम्पत्ति का मकान भी किसी और को बिकवा दिया। जिसके चलते यह दम्पत्ति अपने घर से बेघर होने के कगार पर है। आरोपी व्यक्ति बीते कुछ दिन से अपने घर से भी गायब है जिसकी गुमशुदगी उसके पिता ने कोतवाली में दर्ज करवा रखी है।

काशीपुर रोड पंजाबी कालोनी निवासी हरीश चन्द्र होरा पुत्र स्व0 श्रीचन्द्र ने कोतवाली में दी तहरीर में आरोप लगाया कि भवानीगंज काशीपुर रोड निवासी विवेक शर्मा पुत्र विश्वनाथ शर्मा को उनके घर आना-जाना था। कोई औलाद न होने के कारण उनके सम्बंध विवेक से प्रगाढ़ हो गये थे। डेढ़ साल पहले विवेक अपने साढ़ू शरद शर्मा पुत्र बनारसीदास शर्मा निवासी इन्द्रा कालोनी को उनके घर लेकर आया। जहां उसने शरद पर देवी माता के आने की बात बताते हुये उसे तंत्र-मंत्र सिद्धस्त बताया।

शरद ने हरीश के घर में घूमकर घर के दिशा-ज्ञान को खतरनाक बताते हुये घर को उनके रहने लायक नहीं बताया। इतना ही नहीं शरद ने घर की कमजोर कड़ी हरीश की पत्नी पुष्पा पर तंत्र-मंत्र का डोरा डालते हुये उसे बताया कि यदि इस घर में रहे तो जल्द ही उसके पति का निधन हो जायेगा। इसी प्रकार कई बार तंत्र-मंत्र के नाम पर डराने के बाद अन्तंत दोनो ने हरीश के घर का सौदा 72 लाख रुपये में विजय कुमार पुत्र लक्ष्मण प्रसाद निवासी तेलीपुरा, मौ0 वासिफ पुत्र अब्दुल वहीद निवासी गुलरघटटी, नजर हसन पुत्र अख्तर हुसैन निवासी शंकरपुर से करवाकर उनके बतौर बयाना मिले ग्यारह लाख रुपये यह कहकर ले लिये कि इन पैसो से वह हरीश दम्पत्ति के लिये दूसरे मकान का सौदा करवा देंगे। इसके साथ ही कथित अनिष्ट टालने के उददेश्य से विवेक व शरद ने हरीश के घर में माता रानी की अखण्ड पूजा, कीर्तन, भण्डारा, हवन आदि करने शुरु कर दिये, जिसके नाम पर यह लोग उससे लगातार पैसे मांगते रहे।

tantr-mantr ke naam par thage 48 laakh

पूजा आदि के नाम पर भी इन्होने कुल सात लाख रुपये लिये। ठगो का इतने से भी मन नहीं भरा तो अपने लालच को पूरा करने के लिये यह लोग हरीश के मकान खरीददार को भी हरीश के माध्यम से फोन करवाकर वहां से भी किश्तो में रकम लाते रहे, जिसके चलते जनवरी 2018 से सितम्बर 2018 तक यह लोग उससे 48 लाख रुपये ठग चुके थे। इस बीच जब हरीश ने इनसे अपने नये मकान की बाबत पूछताछ की तो यह लोगो ने हरीश को ही धमकी देनी पर उतारु हो गये। हरीश को डराने के लिये 1 अक्टबूर को शरद के फोन से किसी छून्ना भगत तांत्रिक ने भी उन्हंे बरबाद करने की धमकी दी है।

दूसरी ओर जिन लोगो से हरीश ने अपने मकान का सौदा किया था वह लोग भी मकान को खाली कराये जाने का दवाब बनाये हुये हैं, जिस कारण उनके सामने बेघर होने की नौबत आ गई है। बहरहाल ठगो के हाथ 48 लाख रुपये गंवाने व अपने घर से बेघर होने की नौबत आने पर हरीश ने पुलिस की शरण ली है। जिसके बाद पुलिस ने हरीश की तहरीर के आधार पर मामले की जांच शुरु कर दी है। यहां बताते चलें कि मुख्य आरोपी विवेक शर्मा विद्युत विभाग में संविदा पर कार्यरत था। जहां पर उसके खिलाफ बिजली का बिल जमा करने व बिजली का मीटर लगवाने के नाम पर कई लोगो से ठगी के किस्से सामने आ रहें हैं। मुख्य आरोपी बीते कुछ दिनो से अपने घर से भी गायब है, जिसकी गुमशुदगी उसकेे पिता ने रामनगर कोतवाली में दर्ज करवा रखी है।