सुप्रीम कोर्ट : आधार कार्ड है पुरी तरह से सुरक्षित, बैंकिंग के लिए आधार जरुरी नहीं है

0

आधार कार्ड के ऊपर आख़िर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ चुका है। पांच जजों की पीठ नें अपना फ़ैसला सुनाया। फैसले में सुर्पीम कोर्ट नें कहा की आधार कार्ड लोगों के लिए पुरी तरह से सुरक्षि है। इसे लोग बिना किसी परेशानी के इस्तेमाल कर सकते है। वहीं सुप्रीम कोर्ट नें कहा बैकिंग गतिविधियों के लिए आधार कार्ड इस्तेमाल करने की कोई जरुरत नहीं है।

आधार पर फैसला पढ़ते हुए जस्टिस एके सीकरी नें कहा की आधार कोर्ड को लेकर पिछले कुछ सालों से पुरे देश के अंदर काफी चर्चा हुई। जज नें कहा की आधार कार्ड ग़रीबों की ताकत बना हैं। इसमें किसी भी तरह की डुप्लीकेसी की संभावना नहीं है। उन्होंने आगे कहा की आधार कार्ड पर हमला करना लोगों की निजी ज़िंदगी पर हमला करने जैसा है। जस्टिस सीकरी नें कहा की शिक्षा हमें अंगूठे से हस्ताक्षर की तरफ़ ले गई, लेकिन एक बार फिर हम अंगूठे की तरफ़ जा रहे है और ऐसा सिर्फ़ तकनीक के कारण हो रहा है।

जस्टिस सीकरी बोले कि आधार बनाने के लिए जो भी डेटा लिया जा रहा है वो काफी कम है, उसके मुकाबले जो इससे फायदा मिलता है वो काफी ज्यादा है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि 6 से 14 साल के बच्चों का स्कूल में एडमिशन करवाने के लिए आधार कार्ड जरूरी नहीं है। उन्होंने कहा कि आधार ना होने की स्थिति में किसी व्यक्ति को अपने अधिकार लेने से नहीं रोका जा सकता।

इस मामले की सुनवाई की सुनवाई पहले जनवरी में हुई थी, और सुनवाई 38 दिनों तक चली थ। आधार से किसी की निजता का उल्लंघन होता है या नहीं, इसकी अनिवार्यता और वैधता के मुद्दे पर 5 जजों की संवैधानिक पीठ अपना फैसला सुना रही है। हालांकि, आधार पर सुनवाई की शुरूआत 2012 में हुई थी, जब सुप्रीम कोर्ट ने जनहित याचिका के आधार पर इस मामले को सुना था।