कोर्ट के पास राम मंदिर पर फैसला सुनाने के लिए वक्त नहीं है, लेकिन समलैंगिकता पर फैसला सुनाने के लिए खूब वक्त है: सुशील मोदी

0

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने राम मंदिर निर्माण को लेकर सुप्रीम कोर्ट पर हमला बोला है। सुशील मोदी ने कहा है की कोर्ट के पास समलैंगिकता के ऊपर फैसला सुनाने के लिए वक्त है लेकिन राम मंदिर निर्माण को लेकर कोर्ट के पास कोई वक्त नहीं है। उन्होंने कहा की राम मंदिर का मुद्दा करोडों हिंदुओ की आस्था के साथ जुडा है।

राम मंदिर अयोध्या में ही बनेगा

सुशीन मोदी नें आगे कहा की राम मंदिर का निर्माण सिर्फ़ अयोध्या में ही होगा जबकि मस्जिद निर्माण कहीं पर भी हो सकता है। उन्होंने कोर्ट पर सवाल उठाते हुए कहा की समलैंगिकता और अर्बन नक्सल पर सुप्रीम कोर्ट फैसला दे सकती है तो राम मंदिर पर क्यों नहीं? हम राम मंदिर को छोड नहीं सकते है सरकार भव्य राम मंदिर के पक्ष में है।

जेडीयू नें दी प्रतिक्रिया

बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी के बयान के बाद जेडीयू ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। पार्टी प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा की देश संविधान से चलता है, जिसे बाबा साहब भीम राव आंबेडकर ने बनाया है। राम मंदिर का मसला कोर्ट में है, वहं से फैसला होगा। अगर दोनों पक्षों में आपसी सहमति से हल निकलता है तो भी ठीक है। संसद में अध्यादेश आने पर पार्टी फैसला लेगी। अध्यादेश आने पर पार्टी का रुख केंद्रीय नेतृत्व तय करेगा।