जाने कैसे महंगा पड़ा साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को उनका बयान ?

0

बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने पर रक्षा मंत्रालय की संसदीय समिति से निकाल दिया गया है। उनका ऐसा बयान उन पर ही महँगा पर गया।

बुधवार को लोकसभा में प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने राष्ट्रीय पिता महात्मा गाँधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया जिसकी जितनी भी निंदा की जाए कम है। एक सांसद जो साथ में ही एक पब्लिक फिगर भी है उनकी तरफ से ऐसा बयान आना काफी गलत है।

प्रज्ञा ठाकुर के इस बयान पर तुंरत करवाई हुई। बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने प्रज्ञा को रक्षा मंत्रालय की कमिटी से हटाने की सिफारिश की। साथ ही जेपी नड्डा ने प्रज्ञा के बयान को अस्वीकार्य बताया और गहरी नाराजगी भी प्रकट की। नड्डा ने प्रज्ञा के बयान की निंदा करते हुए कहा, ‘पार्टी कभी भी ऐसे बयानों का समर्थन नहीं कर सकती है।’ उन्होंने कहा कि प्रज्ञा संसद सत्र के दौरान बीजेपी संसदीय दल की बैठक में हिस्सा नहीं ले सकेंगी।

सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को रक्षा मंत्रालय की संसदीय समिति के लिए अप्पोइंट किया गया था. इस कमेटी की अगुवाई रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कर रहे है।

लोकसभा में एसपीजी संशोधन विधेयक, 2019 पर चर्चा के दौरन डीएमके सांसद ए. राजा ने कहा की नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या इसलिए की क्योंकि वह एक खास विचारधारा से प्रेरित था। तभी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने बीच में टोकते हुए कहा, आप एक देशभक्त का उदाहरण इस संदर्भ में नहीं दे सकते हैं।

यह भी पढ़ें : रक्षा मंत्रालय की कमेटी में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर बनी सदस्य

प्रज्ञा के इस बयान पर सदन में बाबल मच गया और उनके खिलाफ सख्त कदम उठाते हुए उन्हें रक्षा मंत्रालय की संसदीय समिति से निकल दिया गया। खबर के अनुसार साध्वी प्रज्ञा के खिलाफ पार्टी की अनुशासन समिति बड़ी कार्यवाही करेगी, उन्हें पार्टी से निकला भी जा सकता है।