सात साल के लड़के को मार कर लाश के साथ सोया 35 दिन

0

दिल्ली में सिविल परीक्षा की तैयारी कर रहे एक शख्स ने सात साल के बच्चे की गला घोंटकर हत्या कर दी और लाश सूटकेस में छिपाकर उसी कमरे में 35 दिन सोता रहा। लाश सड़ने की बदबू ने मोहल्लेवालों को परेशान किया तो मामला उजागर हुआ। मामला स्वरूप नगर इलाके का है। पुलिस के मुताबिक यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कर रहे 27 वर्षीय शख्स को मंगलवार (13 फरवरी) को बच्चे की हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने बताया कि आरोपी अवधेश शाक्य ने 7 साल के बच्चे आशीष को 7 जनवरी को स्वरूप नगर स्थित अपने किराए के मकान में मार दिया था। गिरफ्तार आरोपी के इकबालिया जुर्म के बाद पुलिस ने बच्चे की सड़ चुकी लाश बरामद की। पुलिस ने बताया कि आरोपी इस बात से परेशान था कि बच्चे के माता-पिता से उसके साथ उसे खेलने और बात नहीं करने देते थे, इसलिए उसने हत्या कर दी।

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के डीसीपी असलम खान ने गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए कहा- ”शाक्य लाश को ठिकाने लगाने और बच्चे के पिता को फिरौती की कॉल करने की फिराक में था।” पुलिस ने बताया कि बच्चे के पिता करन सिंह ने स्वरूप नगर पुलिस थाने में 7 जनवरी को गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। दुख की घड़ी में आरोपी भी करन सिंह के साथ पुलिस स्टेशन जाता था। पुलिस ने बच्चे की जानकारी देने के लिए साव लाख रुपये का ईनाम भी रखा था। आरोपी करन सिंह के यहां तीन साल तक बतौर किराएदार रह चुका था। कुछ महीने पहले वह उसी मोहल्ले में दूसरी जगह किराए पर रहने लगा था और कभी-कभार करन सिंह के यहां आया जाया करता था। करन सिंह ने शाक्य से अपने बच्चे से मिलने पर आपत्ति जताई थी।

पुलिस के मुताबिक जुर्म कबूलते हुए आरोपी ने बताया कि एक दिन बच्चा अपने बर्थडे गिफ्ट के लिए उससे साइकिल मांगने आया था, तभी उसने बताया कि उसके घरवालों ने उससे उसे मिलने से मना किया है, इस पर वह आगबबूला हो गया और मफलर से बच्चे का गला घोंटकर लाश सूटकेस में भर दी। पुलिस के मुताबिक आरोपी के कमरे से आने वाली दुर्गंध जब बर्दाश्त के बाहर हुई तो आरोपी करन सिंह के यहां ठहरा भी था। मोहल्ले वालों के पूछने पर वह कहता था कि घर में चूहा मर गया है। मंगलवार को मोहल्ले में शाक्य के बच्चे की हत्या में शामिल होने की खबर फैल गई। मोहल्ले वालों ने उसके घर के बाहर प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। स्थिति को संभालने के लिए पुलिस मौके पर पहुंची और मामले से पर्दा उठ गया।

मोहल्ले की शालू नाम की महिला ने पुलिस पर भी यह कहते हुए आरोप लगाया उसने कई घरों की तलाशी ली लेकिन शाक्य के घर की कभी तलाशी नहीं ली। बच्चे के चाचा ने कहा कि जो शख्स उनके घर पर खाना खाता था, वह बच्चे की हत्या कर देगा, यह जानकर वह सदमे में हैं। आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए। सिविल परीक्षा की तैयारी कर रहा शाक्य मूल रूप से पश्चिमी उत्तर प्रदेश का रहने वाला था और फिजिक्स से एमएससी कर चुका था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 − 2 =