sidhi: संजय टाइगर रिजर्व से लगे गांवों में हाथियों का तांडव जारी | sidhi: Elephant orgy continues in villages adjacent to Sanjay Tiger Re | Patrika News

9
sidhi: संजय टाइगर रिजर्व से लगे गांवों में हाथियों का तांडव जारी | sidhi: Elephant orgy continues in villages adjacent to Sanjay Tiger Re | Patrika News


sidhi: संजय टाइगर रिजर्व से लगे गांवों में हाथियों का तांडव जारी | sidhi: Elephant orgy continues in villages adjacent to Sanjay Tiger Re | Patrika News

सतनाPublished: Mar 25, 2023 10:04:03 pm

ददरी ग्राम पंचायत के नगन्ना गांव में आदिवासी के घर पर हाथियों का हमला
-पूरी रात परेशान रहे ग्रामीण व वनकर्मी
-घर मे रखा अनाज हजम कर गए हाथी, मकान भी किया छतिग्रस्त

sidhi: Elephant orgy continues in villages adjacent to Sanjay Tiger Re

sidhi: Elephant orgy continues in villages adjacent to Sanjay Tiger Re

सीधी/पथरौला। संजय टाइगर रिजर्व क्षेत्र से लगे गांवों में हाथियों का तांडव जारी है। जंगल से निकल कर हाथियों द्वारा ग्रामीणों के घरों को निशाना बनाया जा रहा है। ग्रामीणों के घर को छतिग्रस्त कर हाथी अनाज खा रहे हैं। लगातार जारी हाथियों के कहर से ग्रामीण परेशान हैं और दहशत में रात गुजार रहे हैं।
ऐसा ही एक मामला आदिवासी बाहुल्य जनपद पंचायत कुसमी अंतर्गत ग्राम पंचायत ददरी के नगन्ना गांव का प्रकाश में आया है। जहां शुक्रवार की शाम 7 बजे पटेहटा के जंगलों से निकल कर हाथियों ने हीरावती पति लालशाय निवासी नगन्ना के घर को निशाना बनाते हुए खपरैल मकान को ध्वस्त कर घर में रखे अनाज अरहर, गेहूं, धान, आटा आदि खा गए।
————
जान बचाकर भागे वनकर्मी-
विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक शाम करीब 7 श्रृंगार नदी से लगे जंगल से निकलकर झुंड से बिछड़ा एक नर हाथी दुलही धार नदी में लगे वन विभाग के बैरियर के पास पहुंच गया। हाथी की आहट लगते ही बैरियर पर तैनात कर्मचारी भाग खड़े हुए और आस-पास के ग्रामीणों को हाथी के आने की सूचना दी गई। हाथी के गांव में आने की सूचना पर ग्रामीण अपने घरों से निकल कर घनी बस्ती ददरी चौराहे की तरफ भाग गए। इसी बीच हाथी द्वारा हीरावती सिंह पति लालसाय सिंह का खपरैल मकान ध्वस्त कर अनाज हजम कर दिया।
———–
्रग्रामीणों को करना पड़ा रतजगा-
गांव में हाथी आने की सूचना पर पहुंची वन विभाग की टीम द्वारा ग्रामीणों के सहयोग से इस हाथी को जंगल में खदेडऩे का प्रयास किया जाने लगा। लेकिन इस हाथी ने अपना साहस दिखाते हुए सुबह 3 बजे तक गांव के आस-पास ही मंडराता रहा और पूरी रात ग्रामीणों सहित वन विभाग की टीम भगाने का प्रयास करते रहे। सुबह तीन बजे यह गांव का किनारा पकड़ जंगल में चला गया, तब ग्रामीणों व वनकर्मियों ने राहत की सांस ली।
———-
वन विभाग ने तैयार किया राहत राशि का प्रकरण-
घटना की सूचना उपरांत पहुंचे हल्का पटवारी लक्ष्मण प्रसाद सक्यवाल तथा बीट गार्ड देव कुमार पनिका द्वारा घटना स्थल का मौका मुआयना कर पंचनामा आदि की कार्रवाई करते हुए पीडि़त परिवार का 20 हजार रुपए का क्षतिपूर्ति का प्रकरण तैयार किया गया।
———–
10 हाथी चले गए सीमा पार-
विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक हाथियों के इस झुंड में कुल 13 सदस्य हैं। जिसमें से बीते सप्ताह ताल गांव की घटना के बाद 10 हाथियों का झुंड सीमा पार कर छत्तीसगढ़ के जंगलों में चले गए हैं। जबकि झुंड के 3 सदस्य अभी भी संजय टाइगर रिजर्व एरिया के जंगलों में स्वछंद विचरण कर रहे हैं। जिसमें एक नर हाथी अकेला ही जंगल में विचरण कर रहा है और शाम ढलते ही गांव का रुख कर लेता है। बताया जाता है कि यह नर हाथी काफी निडर है, ग्रामीणों के समूह को देखकर भी पीछे हटने को तैयार नहीं होता है और वनवासियों के दहशत का पर्याय बना हुआ है।
0000000000000000000000000



Source link