Shivraj-Scindia at Khargone: बाजीराव पेशवा को श्रद्धांजलि देने एक साथ पहुंचे शिवराज और महाराज, उपचुनावों के लिए मराठों को साधने पर नजर

71

Shivraj-Scindia at Khargone: बाजीराव पेशवा को श्रद्धांजलि देने एक साथ पहुंचे शिवराज और महाराज, उपचुनावों के लिए मराठों को साधने पर नजर

हाइलाइट्स

  • खरगोन के रावेड़खेड़ी में एक साथ पहुंचे शिवराज और सिंधिया
  • बाजीराव पेशवा की समाधि स्थल पर श्रद्धांजलि देने आए दोनों नेता
  • शिवराज ने रावेड़खेड़ी में नर्मदा घाट बनाने का किया ऐलान
  • कार्यक्रम में शिवराज कैबिनेट के कई मंत्री भी हुए शामिल

खरगोन
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया बुधवार को खरगोन पहुंचे। यहां रावेड़खेड़ी में उन्होंने बाजीराव पेशवा की जन्म जयंती के अवसर पर उनके समाधि स्थल पर श्रद्धांजलि दी। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि रावेड़खेड़ी में नर्मदा घाट विकसित किया जाएगा और तीर्थ यात्री निवास बनाया जाएगा। समाधि स्थल के जीर्णोद्धार की घोषणा करते हुए शिवराज ने सिंधिया के आग्रह को स्वीकार करते हुए कहा कि यहां सारे विकास कार्य काले पत्थरों से ही किए जाएंगे।

शिवराज और सिंधिया दोपहर करीब दो बजे बड़वाह के नजदीक स्थत रावेड़खेड़ी पहुंचे। उन्होंने बाजीराव पेशवा की समाधि स्थल पर पुष्प-मालाएं चढ़ाईं और जनसभा को भी संबोधित किया। समाधि स्थल के विकास के लिए कई घोषणाएं मुख्यमंत्री ने की। इस कार्यक्रम में समाधि स्थल पर बाजीराव की 20 फीट ऊंची प्रतिमा सहित 29 करोड़ रुपये की लागत से विकास कार्यो का भूमिपूजन होना था, लेकिन केवल पूजन किया गया। यह समाधि स्थल सिंधिया के पूर्वजों का बनाया हुआ है।

मंच पर ही सिंधिया का आग्रह माना
कार्यक्रम के दौरान अपने संबोधन में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सीएम से आग्रह किया कि यहां सारे निर्माण कार्य काले पत्थर से किए जाएं। शिवराज ने तुरंत उनका आग्रह मान लिया। मुख्यमंत्री ने मंच से कहा कि सिंधियाजी की इच्छा के अनुरूप यहां काले पत्थरों से ही निर्माण कार्य किए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने बाजीराव पेशवा को याद करते हुए कहा कि उन्होंने गोरिल्ला युद्ध कला को परिष्कृत किया और निजाम की सेना को घुटने टेकने के लिए मजबूर कर दिया। ऐसे वीर की समाधि स्थल के विकास के लिए पैसेों की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी। यहां ऐसा समाधि स्थल बनेगा जिसे देखकर लोग वाह करेंगे।

सिंधिया का विपक्ष पर हमला
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सिंधिया ने संसद के मॉनसून सत्र में विपक्षी पार्टियों के व्यवहार पर जोरदार हमला बोला। सिंधिया ने कहा कि विपक्ष, खास तौर पर कांग्रेस ने संसद में नंगा नाच किया। प्रजातंत्र के मंदिर को नष्ट करने का काम किया। विपक्षी पार्टियों ने प्रजातंत्र का गला घोंटने का काम किया। उन्हें जनता ने 2014 में सबक सिखाया था, 2019 में सिखाया और अब 2024 में सबक सिखाएंगे।
आईएमडी की गलत भविष्यवाणियों से खराब हो रही फसलें, किसान नेता ने दी कोर्ट जाने की धमकी

मौजूद थे सरकार के कई मंत्री
कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज और सिंधिया के साथ मध्य प्रदेश कैबिनेट के कई मंत्री भी शामिल हुए। जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट, कृषि मंत्री कमल पटेल और पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर के साथ कई विधायक भी इस अवसर पर मौजूद थे। इन सबको कार्यक्रम की शुरुआत में मराठा पगड़ी पहनाई गई। समारोह में बाजीराव पेशवा के वंशजों को भी बुलाया गया था।

Indore News: स्वतंत्रता दिवस समारोह के वायरल वीडियो पर बवाल, युवती ने लगाए ‘भारत माता की जय’ के नारे तो मंच से उतारा

नजर मराठा वोटों पर
रावेड़खेड़ी खंडवा लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है जहां उपचुनाव होने हैं। बीजेपी के नंदकुमार सिंह चौहान की मृत्यु के चलता यहां दोबारा चुनाव होने हैं। बाजीराव पेशवा के समाधि स्थल के जीर्णोद्धार और अन्य विकास योजनाओं की घोषणा संभवतः इसी को ध्यान में रखकर की गई है। इसके जरिये बीजेपी ने मराठा वोटरों को साधने की कोशिश की है, जिनकी इस क्षेत्र में अच्छी खासी तादाद है। बीजेपी इसको लेकर कितनी गंभीर है, इसका अंदाजा इससे भी लगता है कि मुख्यमंत्री के साथ उनकी कैबिनेट के कई मंत्री भी घोषणा के समय मंच पर मौजूद थे।

उमध्यप्रदेश की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Madhya Pradesh News