गुजरात- वल्लभभाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा हुई तैयार, पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन

0

नई दिल्ली: आज हम जिसके बारे में बताने जा रहें है वो स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थी. उन्होंने वतन के लिए काफी योगदान दिया है. जी हां, हम बात कर रहें है सरदार वल्लभ भाई पटेल की जो भारत के आजादी के बाद के पहले गृह मंत्री और उप-प्रधानमंत्री बने. इनका जन्म नडियाद, गुजरात में हुआ था.

बता दें कि गुजरात में सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा बनकर तैयार है. ये अब तक दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति है. अब इस मूर्ति के फाइनल फिनिशिंग का कार्य चल रहा है. मोदी जी पहले गुजरात के मुख्यमंत्री भी रहें थे, वो चाहते थे कि सरदार सरदार वल्लभ भाई पटेल की एक ऐसी प्रतिमा बने जो दुनिया में सबसे ऊंची हो. अब पीएम मोदी का यह सपना पूरा होने जा रहा है. 31 अक्टूबर को मोदी जी दुनिया की सबसे बड़ी प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का उद्घाटन करेंगे.

ऐसी क्या है खासियत

इस प्रतिमा के उद्घाटन के साथ ही श्रेष्ठ भारत भवन की भी शुरुआत की जाएगी. इस भवन में पचास से अधिक कमरे तैयार किए जाएंगे. ये ही नहीं यहां आने वाले पर्यटकों के लिए वैली भी तैयार की गई है. वहीं, सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति के सामने एक फ़ूड कोर्ट भी बनवाया गया है. यहां पर साफ-सफाई का खास ध्यान दिया जाएगा. रोचक बात तो यह है कि स्टैच्यू के अंदर दो लिफ्ट रखी गई है. इस लिफ्ट द्वारा आप स्टेच्यू में ऊपर तक ले जाए जाएंगे, जहां उनके दिल के पास एक गैलरी बनायी गई है. यहां से पर्यटकों को सरदार पटेल बांध और वैली का नजारा देखने को मिलेगा.

लगभग 4076 मजदूरों ने दो शिफ्टों में काम किया

केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद अक्टूबर 2014 में लार्सेन एंड टर्बो कंपनी को इसका निर्माण सौंपा गया. इस कार्य को सही समय तक करने के लिए लगभग 4076 मजदूरों ने दो शिफ्टों में काम किया. इसमें 800 स्थानीय और 200 चीन से आए कारीगरों ने भी काम किया. इस प्रतिमा में पटेल जी की सादगी भी साफ रूप से झलकती है जिसमें सिलवटों वाला धोती-कुर्ता, बंडी और कंधे पर चादर उनकी पहचान थी. ये सब कुछ मूर्ति में ढल चुका है.