Sanjay Raut: पात्रा चॉल घोटाला मामले में संजय राउत कोर्ट में पेश, 8 अगस्त तक फिर ईडी की हिरासत में भेजे गए

0
97

Sanjay Raut: पात्रा चॉल घोटाला मामले में संजय राउत कोर्ट में पेश, 8 अगस्त तक फिर ईडी की हिरासत में भेजे गए

मुंबई: पात्रा चॉल घोटाला मामले में शिवसेना सांसद संजय राउत को ईडी ने कुछ दिनों पहले गिरफ्तार किया था। इस मामले में आज एक बार फिर से उनको अदालत में पेश किया गया। इसमें 1034 करोड रुपए के घोटाले की बात सामने आई थी। जिसमें 672 लोगों को फ्लैट बनाकर देना था। यह चॉल 47 एकड़ के इलाके में फैली हुई थी। यह जगह मुंबई के गोरेगांव वेस्ट में है।

मामले की सुनवाई अदालत में शुरू
संजय राउत के मामले की सुनवाई अदालत में शुरू हुई। जज ने उनसे पूछा कि आपको कोई दिक्कत तो नहीं है। जिसपर उन्होंने कहा कि मुझे जहां कस्टडी में रखा गया है। वहां वेंटिलेशन की पर्याप्त व्यवस्था नहीं है। इसपर जज ने प्रवर्तन निदेशालय से पूछा कि आप इस मामले में क्या कर रहे हैं?

पंखे की मांग
संजय राउत ने अदालत से पंखे की मांग की है। इस मामले में ईडी ने अदालत से माफी मांगी और कहा कि हमने उनको एसी रूम में रखा है संजय राउत झूठ बोल रहे हैं। ईडी ने वेंटीलेशन वाला रूम उपलब्ध कराने की बात कही है। साथ ही यह भी कहा कि इनके और उनके परिवार के अकाउंट में 1 करोड़ 6 लाख कैसे आए? साथ ही विदेश दौरों पर कितना खर्च किया गया, उसकी जांच की जा रही है।

संजय राउत को हर महीने मिलते थे पैसे!
प्रवर्तन निदेशालय ने अदालत को बताया कि हमने छापेमारी के दौरान कुछ कागजात हासिल किए हैं। जिन की पड़ताल पर यह पता चलता है कि संजय राउत को हर महीने प्रवीन राउत द्वारा एक निश्चित रकम दी जाती थी। इन्हीं पैसों से अलीबाग में उन्होंने जमीन खरीदी है। ईडी ने यह भी कहा कि एक अज्ञात व्यक्ति द्वारा संजय राउत की पत्नी के अकाउंट में पैसे ट्रांसफर किए गए। इस तरह की भी जानकारी हमारे पास है।

सोमवार तक कस्टडी की मांग
प्रवर्तन निदेशालय ने अदालत से कहा कि संजय राउत जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। इसलिए सोमवार तक उनकी कस्टडी दी जाए

Copy

राउत के वकील की दलील
संजय राउत की तरफ से उनके वकील मनोज मोहिते ने बहस करते हुए कहा कि ईडी का यह आरोप बिल्कुल भी नया नहीं है। जिस अलीबाग की जमीन की बात की जा रही है।उसकी जांच पहले ही की जा चुकी है।

स्वप्ना पाटकर को धमकी कौन दे रहा है?
अदालत में स्वप्ना पाटकर के वकील ने कहा कि संजय राउत द्वारा उनके क्लाइंट को धमकाया जा रहा है। इस पर जज ने पूछा कि जब संजय राउत गिरफ्तार हैं तो उन्हें धमकी कौन दे रहा है?

क्या है पात्रा चॉल घोटाला?
आपको बता दें कि शिवसेना सांसद संजय राउत इसी घोटाले में मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों में गिरफ्तार किए गए हैं। इस घोटाले की शुरुआत साल 2007 से हुई थी। तब यह आरोप लगा था कि म्हाडा के साथ गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन और एचडीआईएल (हाउसिंग डेवलपमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड) की मिलीभगत से इस घोटाले को अंजाम दिया गया। शुरुआत में म्हाडा ने पात्रा चॉल के रीडेवलपमेंट का कार्य गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन को दिया था।

इस मामले में 1034 करोड रुपए के घोटाले का आरोप है। यह कंपनी प्रवीन राउत की है। जो शिवसेना सांसद संजय राउत के करीबी मित्र हैं। इस कंपनी पर चॉल के लोगों के साथ धोखाधड़ी का आरोप लगाया गया है। यहां पत्र में 3000 से ज्यादा फ्लैट बनाए जाने थे। जिसमें से 672 साल के चॉल निवासियों को मिलने थे। लेकिन जमीन प्राइवेट बिल्डरों को बेच दी गई।

राजनीति की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – राजनीति
News