Samastipur Murder: आलोक मेहता और ऋतु जायसवाल ने संभाली अपराध पर नीतीश सरकार को घेरने की जिम्मेदारी, जानिए तेजस्वी यादव ने क्यों किया भरोसा

0
102

Samastipur Murder: आलोक मेहता और ऋतु जायसवाल ने संभाली अपराध पर नीतीश सरकार को घेरने की जिम्मेदारी, जानिए तेजस्वी यादव ने क्यों किया भरोसा

पटना/समस्तीपुर: बिहार में बढ़ते अपराध को लेकर सरकार पर विपक्ष काफी तेजी से हमलावर है। खासतौर पर तेजस्वी के सेनापति बिहार की नीतीश सरकार पर हमला बोलने का कोई भी मौका नहीं छोड़ रहे। समस्तीपुर में हाल ही में लड़की से गैंगरेप और फिर एक 14 साल की बच्ची के बलात्कार के केस में तेजस्वी के दो चुनिंदा नेता नीतीश सरकार पर तीखे हमले बोल रहे हैं। इनमें से पहले हैं आरजेडी के प्रधान महासचिव-पूर्व मंत्री आलोक मेहता और मुखिया फेम ऋतु जायसवाल हैं। हालांकि आरजेडी ने ऋतु जायसवाल को परिहार सीट से बिहार विधानसभा 2020 का चुनाव लड़वाया था, लेकिन वो बीजेपी की गायत्री देवी से हार गई थीं। बावजूद इसके तेजस्वी ने उनपर लगातार भरोसा बनाए रखा है। सवाल यही है कि नीतीश सरकार के खिलाफ तेजस्वी ने इन दो नेताओं पर भरोसा क्यों जताया?

आलोक मेहता तेजस्वी के तरकश के खास ‘तीर’
आलोक कुमार मेहता समस्तीपुर के उजियारपुर से विधायक हैं, उसी उजियारपुर से जहां से केंद्र सरकार में मंत्री नित्यानंद राय आते हैं। वहीं आलोक मेहता बिहार सकार में मंत्री भी रह चुके हैं। आलोक मेहता ने 2020 के चुनाव में भी जीत दर्ज की थी। आलोक मेहता खुद इंजीनियरिंग में बीटेक कर चुके हैं। आरजेडी में उनकी छवि एक ऐसे नेता की है जो काफी ज्यादा पढ़ा लिखा और राजनीति को नजदीक से समझनेवाला है। साल 2020 में आलोक मेहता उम्मीदवारी का पर्चा दाखिल करने साइकिल से पहुंच गए थे। तब उन्होंने कहा था कि मंत्री रहने के दौरान उन्होंने उजियारपुर में ROB का प्रस्ताव पास कराया था, लेकिन सरकार बदलते ही काम रुक गया, इसी के विरोध में वो साइकिल से नामांकन कराने पहुंचे।
Muzaffarpur Name Change: जानिए कैसे पड़ा लीची के लिए मशहूर इस शहर का नाम और रामसूरत राय ने क्यों की इसे बदलने की मांग
बात अगर तेजस्वी के भरोसे की करें तो आलोक मेहता अपने जिले के मुद्दों को जोर-शोर से उठाते हैं। ऐसे में उनके जिले में हुई वारदातों के बाद तेजस्वी के लिए आलोक मेहता से बढ़िया पसंद और कोई नहीं हो सकती थी। लेकिन हर सेनापति के लिए भी एक सलाहकार काफी अहम होता है। ऐसे में इसकी जिम्मेवारी ऋतु जायसवाल ने संभाली।
navbharat times -Bihar Weather Update: बिहार में आज बरसेंगे बदरा, कई जिलों में बारिश का अलर्ट, किसानों की पूरी होगी आस
ऋतु जायसवाल पर तेजस्वी को इसीलिए भरोसा
ऋतु जायसवाल ने समस्तीपुर में हो रहे अपराधों को लेकर मोर्चा खोले अपने नेता आलोक मेहता का पूरा साथ दिया। उन्होंने इस मुद्दे पर एक के बाद एक कई ट्वीट किए। एक ट्वीट में आलोक मेहता का वीडियो पोस्ट करते हुए ऋतु जायसवाल ने लिखा कि ‘पूरे बिहार मे अपराध चरम पर है और दलित, पिछड़ो का लगातार शोषण हो रहा है। आरजेडी के के प्रधान महासचिव आलोक मेहता जी के के नेतृत्व मे हमने समस्तीपुर मे बढ़ते अपराध की समीक्षा की और पीड़ित परिवारों से मिल कर न्याय की लड़ाई मे संपूर्ण राजद परिवार का उनके साथ रहने का भरोसा दिया।’

Bettiah Bank Loot: बेतिया में गार्ड को बंधक बना बैंक से 15 लाख की लूट, 6 हथियारबंद लुटेरों ने दिया वारदात को अंजाम

Copy

मुखिया फेम ऋतु जायसवाल भी किसी परिचय की मोहताज नहीं हैं। हाजीपुर की रहनेवाली ऋतु की शादी 95 बैच के आईएएस अफसर अरुण कुमार से 1996 में हुई थी। इसके बाद एक बार जब वो अपने ससुराल सिंहवाहिनी पंचायत (सीतामढ़ी) आईं तो उन्होंने यहां की हालत देख राजनीति में आने का फैसला कर लिया और चुनाव जीत कर मुखिया बन गईं। ऋतु जायसवाल जब से आरजेडी में आई हैं तभी से तथ्यों को लेकर वो नीतीश सरकार पर हमला बोलने का कोई मौका नहीं चूकतीं। इसके अलावा वो पार्टी में विधायक न बनने के बाद भी मेहनत करती आई हैं। यही वजह है कि अपराध पर नीतीश सरकार को घेरने के लिए तेजस्वी ने इन पर भी पूरा भरोसा जताया है।

बिहार की और खबर देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Delhi News