क्या एक बार फिर से पहुंचेगा अयोध्या मामला सुप्रीम कोर्ट में ?

0
review petition
review petition

दशकों से चल रहा राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले ने एक बार फिर से एक नया रुख देखने को मिल सकता है।12 नवंबर हिन्दू पक्ष और मुस्लिम पक्ष की दलीलें सुनने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस संदर्भ में अपना आखिरी फैसला सुनाया लेकिन एक बार फिर से इस मुद्दे पर विवाद उठा रहा है,

एक बार फिर से अयोध्या मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच सकता है, ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर रिव्यू पिटिशन दाखिल करने की घोषणा कर चुकी है।

साथ ही यह भी फैसला किया की सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मुताबिक मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन लेने से साफ इन्कार किया। रविवार को लखनऊ में बोर्ड के अध्यक्ष मौलाना राबे हसन नदवी की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद बोर्ड के सदस्यों ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले में कई विरोधाभास हैं, ऐसें में रिव्यू पिटिशन दाखिल करने का फैसला किया गया है।

वही दूसरी तरफ मुस्लिम पक्षकार इक़बाल अंसारी ने अयोध्या मामले पर रिव्यू पिटिशन दाखिल करने से साफ तोर से इन्कार कर दिया। उनके अनुसार सुप्रीम कोर्ट का आदेश सर्वोपरी आदेश है। और उनके आदेश को चैलेंज करने की हिमाकत नहीं करेंगे , कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हुए इस मामले को यही खत्म करना चाहते है।

यह भी पढ़ें : अयोध्या विवाद: आखिर आ ही गया सबसे बड़ा फैसला

वही मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य जफरयाब जिलानी के अनुसार मुस्लिम पक्षकारों में से मिसबाहुद्दीन, मौलाना महफूजुर्रहमान, मोहम्मद उमर और हाजी महबूब ने पुनर्विचार याचिका दायर करने पर अपनी सहमति AIMPLB को दे दी है. इसके अलावा जमीयत उलेमा-ए-हिंद (हामिद मोहम्मद सिद्दीकी) की ओर से मौलाना अरशद मदनी ने भी रिव्यू पिटिशन दाखिल करने का ऐलान किया है।