ये परिणाम मध्यप्रदेश में बीजेपी के लिए खतरे की घंटी तो नहीं !

0

मध्यप्रदेश में हुए 43 नगरीय निकाय चुनावों का परिणाम सामने आ गया है। चुनावों के परिणामों से तो यही जाहिर होता है कि भाजपा की मुश्किलें शायद बढ़ने वाली है। 43 नगरीय निकाय चुनावों के परिणाम ने बीजेपी को झटका दिया है। बीजेपी ने 25 सीटों पर कब्ज़ा किया है मगर पार्टी को पिछली बार के मुकाबले दो सीटें कम मिली हैं। वहीं कांग्रेस ने 15 सीटों पर जीत हासिल की है, कांग्रेस के लिये ये जीत बड़ी है क्योंकि पिछली बार उसके पास सात सीटें थीं। कांग्रेस ने भी बीजेपी की कई सीटों पर सेंध लगाई हैं।

छिंदवाड़ा और झाबुआ जिले में बीजेपी को करारी मात मिली है. सूबे की बड़ी नगर पंचायत पर कांग्रेस ने जीत के झंडे गाड़े हैं तो कई जगहों पर कांग्रेस की हार का अंतर भी कम रहा। निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी तीन सीटों पर कब्ज़ा किया है. उधर बीजेपी और कांग्रेस दोनों ने जीत पर अपना दावा किया है।

परिणामों की खबर मिलते ही बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित सभी बड़े नेता भोपाल के बीजेपी कार्यालय पहुंचे और जश्न मनाया। कांग्रेस ने भी जश्न मनाने में कमी नहीं की। पार्टी दफ्तर पर पटाखे फोड़े गये।

बीजेपी का 25 सीटों पर कब्ज़ा-
जैतवारा, आठनेर, हर्रई, कैलारस, कोतमा राणापुर, डिंडोरी, भिकनगांव, मंडलेश्वर, थांदला, पेटलावद, भाबरा, डबरा, नेपानगर, चिचोली, नैनपुर, पाली, बम्हनी बंजर, बिछिया, जोबट, छनेरा, बुढार, जय सिंह नगर, बिजुरी शहडोल।

कांग्रेस का 15 सीटों पर कब्ज़ा-
मंडला, सैलाना, मोहगांव, शाहपुरा, निवास, जुन्नारदेव, महेश्वर, सनावद ,दमुआ, सौसर, बैहर, अलीराजपुर, झाबुआ, गाडरवारा शमशाबाद।
निर्दलीय प्रत्याशी 3 सीटों पर जीते – लखनादौन, पांढुर्णा, सारणी।

इस चुनाव में सत्तारुढ़ दल बीजेपी और विपक्षी दल कांग्रेस आमने-सामने थी और इसे काफी अहमियत दी जा रही थी। आपको बता दें कि 43 नगरीय निकाय के लिए 11 अगस्त को वोट डाले गए थे, जिसमें करीब आठ लाख मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ten − nine =