द कश्मीर फाइल्स में दिखें है रियल सीन्स, देखें 20 लोगों का कत्ल करने वाले बिट्टा कराटे का असली वीडियो

0
773

द कश्मीर फाइल्स में दिखें है रियल सीन्स, देखें 20 लोगों का कत्ल करने वाले बिट्टा कराटे का असली वीडियो

फिल्म द कश्मीर फाइल्स को जबरदस्त माउथ पब्लिसिटी मिल रही है। लोग सोशल मीडिया पर और आपस में फिल्म को लेकर चर्चा कर रहे हैं। कश्मीर में 1990 में हुए नरसंहार और कश्मीरी पंडितों के साथ दिल दहलाने वाले अत्याचार जो कई लोग नहीं जानते थे, इस फिल्म के जरिये जान रहे हैं। फिल्म को 2 दिन में बॉक्सऑफिस पर काफी अच्छा रिस्पॉन्स मिला है। मूवी में कई  ऐसे सीन्स दिखाए गए हैं जो आपको परेशान कर सकते हैं। फिल्म में बिट्टा कराटे का इंटरव्यू भी दिखाया गया है। उसका असली वीडियो  यूट्यूब पर है। फिल्म में वह एकदम सहज होकर हत्याों की बात कुबूलता दिखा है। हकीकत में भी उसने बताया था कि करीब 20 लोगों का कत्ल किया था। इनमें कश्मीरी पंडित ही नहीं बल्कि मुसलमान भी शामिल थे।

बिट्टा ने किए थे चौंकाने वाले खुलासे

डायरेक्टर विवेक रंजन अग्निहोत्री फिल्म द कश्मीर फाइल्स के लिए लंबे वक्त से रिसर्च कर रहे थे। उन्होंने डॉक्यूमेंट्स और पीड़ितों से जानकारी लेकर कई सच्ची घटनाओं के स्क्रीन पर उतारा है। फिल्म में एक सीन है जिसमें आतंकी बिट्टा कराटे का इंटरव्यू दिखाया गया है। कश्मीर त्रासदी के वक्त वह कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के लिए काम करता था। इंटरव्यू में उसने कई चौंकाने वाले खुलासे किए थे।

The Kashmir Files ने लगाई Box Office पर आग, कमाई के मामले में बना दिया रिकॉर्ड, नहीं मिल रहीं टिकटें

बताया पहले कत्ल के बाद कैसा लगा था

द कश्मीर फाइल्स में आंतकी का इंटरव्यू है जिसमें वह बताता है कि उसे कत्ल करने का ऑर्डर मिलता था। अगर कहा जाता तो वह अपनी मां को भी मार देता। हकीकत में बिट्टा कराटे ने भी यही बात कही थी। वीडियो यूट्यूब पर मौजूद है। इसमें बिट्टा ने बताया था कि पहला कत्ल करने के बाद उसे अजीब सा लगा था इसके बाद नॉर्मल लगने लगा। बताया जाता है कि बिट्टा ने बहुत बुरी तरह कई कत्ल किए थे।

Copy

ये भी पढ़ें: द कश्मीर फाइल्स देखने वालों को मिल रहे हैं ऑफर्स, आपने देखे ये वायरल पोस्ट?

बिना नकाब के करता था मर्डर

बता दें कि 1990 में 1 लाख से ज्यादा कश्मीरी पंडितों को उनका ही घर छोड़ने पर मजबूर किया गया था। उन्हें रातोरात बेघकर कर दिया गया था। कश्मीर में लोगों की हत्याएं और दहशत फैलाने का काम 1989 से ही शुरू हो था। बिट्टा कराटे उर्फ फारूक अहमद डार उस वक्त घाटी में दहशत का दूसरा नाम बन गया था। वह कश्मीरी पंडितों को खोज-खोजकर मारता था। इंटरव्यू में वह बताता है, पहला खून मैंने सतीश का किया था। बिट्टा ने यह भी बताया था कि वह पिस्टल से मारता था। अक्सर अकेले मर्डर करने निकलता था और नकाब नहीं पहनता था। वहां के लोग उसका साथ देते थे।

VIDEO CREDIT: WildFilmsIndia/IndiaToday

Source link