”राम मंदिर” चुनाव तक ठंडे बस्ते में, VHP के तेवर सुस्त पड़े

0

अयोध्या में राम मंदिर बनाने को लेकर लंबे अरसे से साधु-संत और हिन्दुवादी संगठन धर्मसभा करके लगातार सरकार पर दबाव बना रहे हैं लेकिन, अब ये दबाव ठंड़ा पड़ने लगा है क्योंकि VHP ने कहा है कि “हमने देश में आम चुनाव के ख़त्म होने तक राम मंदिर निर्माण के लिए अपने अभियान पर रोक लगा दी है क्योंकि हम नहीं चाहते कि राम मंदिर चुनावी मुद्दा बनें”। देश में अप्रैल-मई में आम चुनाव हो सकते हैं।

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के मुद्दे को लेकर प्रतिबद्ध है VHP

VHP ने कहा है कि “वह अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने को लेकर प्रतिबद्ध है”। VHP के अंतरराष्ट्रीय संयुक्त महासचिव सुरेंद्र जैन ने कहा है कि “VHP ने आम चुनाव खत्म होने तक अयोध्या में राम जन्मभूमि पर राम मंदिर के निर्माण के लिए अपना अभियान को रोकने का फैसला किया है क्योंकि संगठन नहीं चाहता कि यह कोई चुनावी मुद्दा बने”। VHP राम जन्मभूमि आन्दोलन का नेतृत्व कर रहा है और पिछले लंबे समय से केन्द्र सरकार से अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए संसद में क़ानून लाने की मांग कर रहा है।

साधु-संत BJP से नाराज़ हैं।

2014 के आम चुनाव में BJP ने अपने घोषणापत्र में अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने का वादा किया था लेकिन, मोदी सरकार के साढ़े 4 साल बीत जाने के बाद भी, मोदी सरकार राम मंदिर बनाने के वादे को पूरा नहीं कर पाई है। जिससे साधु-संत नाराज़ है। बीजेपी और मोदी सरकार लगातार कहती रही है कि जब तक सुप्रीम कोर्ट इस मसले पर कोई फ़ैसला नहीं सुना देता तब तक सरकार का राम मंदिर के मुद्दे पर अध्यादेश लाने का कोई विचार नहीं है।