Rajasthan Congress: आलाकमान के नया फार्मूला कांग्रेसी नेताओं पर पड़ रहा भारी, जिलाध्यक्षों की नियुक्ति में ये नेता हो सकते हैं बाहर

0
133

Rajasthan Congress: आलाकमान के नया फार्मूला कांग्रेसी नेताओं पर पड़ रहा भारी, जिलाध्यक्षों की नियुक्ति में ये नेता हो सकते हैं बाहर

जयपुर:प्रदेश कांग्रेस संगठन में होने वाले जिलाध्यक्षों की नियुक्ति ने प्रदेश के दिग्गज नेताओं की नींद उड़ा दी है। 13 से 15 मई तक उदयपुर में हुए कांग्रेस के चिन्तन शिविर में पार्टी ने पदाधिकारियों की नियुक्ति का नया फार्मूला तय किया था। इस फार्मूले के तहत पूर्व पदाधिकारियों को रिपीट नहीं करना तय हुआ था। वर्तमान में मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास जयपुर के जिलाध्यक्ष हैं। मंत्री राजेन्द्र यादव जयपुर ग्रामीण के जिलाध्यक्ष हैं और विधायक डॉ. जितेन्द्र सिंह झुंझुनूं के जिला अध्यक्ष हैं। नए जिलाध्यक्षों में इन्हें रिपीट नहीं करने पर ये तीनों सीनियर नेता संगठन से बाहर हो जाएंगे। इस नए फार्मूले के कारण कांग्रेस संगठन में जिलाध्यक्षों की नियुक्ति अटकी हुई है।

गतवर्ष रिपीट हुए 6 अध्यक्षों के इस्तीफी एआईसीसी को भिजवाए
दिसम्बर 2021 में संगठन में 13 जिलाध्यक्षों की नियुक्ति की गई थी। इनमें से 6 जिला अध्यक्षों को रिपीट किया गया था। इनमें जोधपुर ग्रामीण से हीराराम मेघवाल, बाड़मेर से फतेह खान, बीकानेर शहर से यशपाल गहलोत, अलवर से योगश मिश्रा, दौसा से रामजीलाल ओढ और नागौर से जाकिर हुसैन शामिल है। इन सभी 6 जिलाध्यक्षों के इस्तीफे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी को भिजवा दिए गए हैं। एआईसीसी से इस्तीफे स्वीकृत होने के बाद नए जिलाध्यक्षों की घोषणा की जाएगी।

तीन जिलों में 3-3 जिलाध्यक्ष नियुक्त होंगे, जातिगत समीकरण देखते हुए कुल 42 जिलाध्यक्षों की नियुक्ति होगी
जोधपुर और कोटा की तर्ज पर अब जयपुर में भी तीन जिलाध्यक्ष होंगे। अजमेर और दो-दो जिलाध्यक्षों की नियुक्ति होनी है। प्रदेश के बाकी जिलों में एक एक जिलाध्यक्ष बनाया जाएगा। संगठन में कुल 42 जिलाध्यक्ष होंगे। इनकी नियुक्ति में भी जातीय समीकरण को ध्यान में रखा जाता है। दिसम्बर 2921 में जब 13 जिलाध्यक्षों की नियुक्ति हुई थी।

तब सामान्य वर्ग से 4 (2 ब्राह्मण, 1 राजपूत, 1 महाजन), ओबीसी वर्ग से 4 (1 जाट, 1 गुर्जर, 1 माली, 1 रावणा राजपूत), मुस्लिम समुदाय से 3, अनुसूचित जाति से 1 और अनुसूचित जनजाति से 1 नेता को जिलाध्यक्ष बनाया गया था। नए जिलाध्यक्षों की नियुक्ति में भी जातीय बेलेंस बनाया जाएगा ताकि सबको प्रतिनिधित्व का अवसर मिले।

इन 29 जिलों में होगी जिलाध्यक्षों की नियुक्त
चूंकि पिछले साल दिसम्बर में 13 जिलाध्यक्षों की नियुक्ति कर दी गई थी। ऐसे में कुल 42 जिला अध्यक्षों में 13 कम होने पर 29 जिलाध्यक्षों की नियुक्ति होनी है। इन जिलों में अजमेर, बांसवाड़ा, भरतपुर, भीलवाड़ा, बूंदी, चित्तोड़गढ, डूंगरपुर, चुरू, धोलपुर, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ, जालोर, करोली, कोटा, सिरोही, सीकर, सवाई माधोपुर, टोंक, प्रतापगढ, पाली, और उदयपुर शामिल है।

Copy

नागौर, बाड़मेर, बीकानेर शहर, अलवर, दौसा और जोधपुर ग्रामीण के वर्तमान अध्यक्षों के इस्तीफे एआईसीसी को भेजे गए हैं। इनके इस्तीफे स्वीकार होने पर कुल 29 + 6 = 35 जिलाध्यक्षों की नियुक्ति होनी है।

रिपोर्ट: रामस्वरूप लामरोड़

राजस्थान की और समाचार देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Rajasthan News