Quad Meeting: चीन पर भारत रहा सख्त, यूक्रेन को लेकर खामोशी; जयशंकर बोले- क्वाड ने अच्छा काम किया

166


Quad Meeting: चीन पर भारत रहा सख्त, यूक्रेन को लेकर खामोशी; जयशंकर बोले- क्वाड ने अच्छा काम किया

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शुक्रवार को मेलबर्न में क्वाड देशों की बैठक में हिस्सा लिया। उन्होंने कहा कि भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान के बीच मजबूत संबंधों के कारण क्वाड ने वैश्विक भलाई के लिए अच्छा काम किया है। जयशंकर ने उस वक्त संक्षेप में यह बात कही, जब वह अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के अपने समकक्षों के साथ यहां क्वाड देशों के विदेश मंत्रियों की चौथी बैठक के मौके पर ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन से अलग से मुलाकात कर रहे थे।

विदेश मंत्री के रूप में आस्ट्रेलिया की पहली यात्रा पर आए जयशंकर ने कहा कि यह बहुत उपयुक्त है कि क्वाड की बैठकें होनी चाहिए और कल भी हमारी द्विपक्षीय बैठकें हैं। वह शनिवार को अपने ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष मारिस पायने के साथ 12वें भारत-ऑस्ट्रेलिया विदेश मंत्रियों के प्रारूप संवाद की सह-अध्यक्षता करेंगे।

‘आप बहुत अच्छा काम कर रहे’

पिछले साल सितंबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन, जापान के तत्कालीन प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा और मॉरिसन के बीच हुए क्वाड शिखर सम्मेलन को याद करते हुए, जयशंकर ने कहा कि इसने हमें क्वाड को आगे बढ़ाने के लिए मार्गदर्शन दिया। मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि आप बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। आज की बैठक में हमें समीक्षा करने का मौका मिला है कि हमने कितनी प्रगति की है।

उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि क्वाड ने एक ताकत के रूप में अच्छी तरह से काम किया है, जिसे हमारे प्रधानमंत्री वैश्विक भलाई के लिए शक्ति’ का नाम देते हैं, क्योंकि हमारे द्विपक्षीय संबंध बहुत मजबूत रहे हैं और निश्चित रूप से मैं क्वाड के बीच द्विपक्षीय संबंधों में भी प्रगति की उम्मीद करता हूं।

नियम-आधारित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था पर रहा जोर

बैठक के दौरान विदेश मंत्री जयशंकर चीन को लेकर कड़ा रूख अख्तियार करते नजर आए। उन्होंने नियम-आधारित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था पर जोर दिया, जो कि क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता के सम्मान पर आधारित हो। वहीं, म्यांमार को लेकर जयशंकर ने भारत-म्यांमार सीमा पर उग्रवाद की चुनौती की ओर इशारा किया। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि भारत ‘राष्ट्रीय प्रतिबंधों’ के खिलाफ है। अमेरिका ने म्यांमार सरकार के कई नेताओं पर प्रतिबंध लगाए हैं। वहीं, यूक्रेन पर भारत की खामोशी नजर आई।

‘हम अपने मूल्यों के लिए खड़े रहेंगे’

अपने उद्घाटन भाषण में प्रधानमंत्री मॉरिसन ने कहा कि उन्हें यह विश्वसनीय रूप से आश्वस्त करने वाला लगता है कि समान विचारधारा वाले साझेदार ऑस्ट्रेलिया में क्वाड बैठक के लिए एकत्र हुए हैं। उन्होंने कहा, ”मैं अपने दृष्टिकोण से, हम में से प्रत्येक के बीच साझा की गई समझ से, हमारे क्वाड भागीदारों द्वारा ऑस्ट्रेलिया को प्राप्त विश्वसनीय समर्थन के प्रति आश्वस्त हूं।” मॉरिसन ने कहा कि उनके द्वारा कई मुद्दों पर चर्चा की गई है और ”हम अपने मूल्यों के लिए खड़े रहेंगे जो हमें सबसे ज्यादा एकजुट करते हैं।”

मॉरिसन ने कहा कि क्वाड साझेदार कई साझा परियोजनाओं और कई क्षेत्रीय मुद्दों पर एक साथ मिलकर काम कर रहे हैं जो क्वाड समूह के देशों को एक दूसरे से बांधे रखते है। उन्होंने कहा, ”हम महान लोकतंत्र हैं जो उद्यम और नवाचार पर आधारित अर्थव्यवस्था देखते हैं और हम एक ऐसी विश्व व्यवस्था का समर्थन करते हैं जो हमारे अंतरराष्ट्रीय संस्थानों के माध्यम से स्वतंत्रता का समर्थन करता है।”



Source link