Putin Doomsday Plane: विक्ट्री-डे परेड में क्यों नहीं दिखा रूस का महाविनाश का प्लेन, पुतिन का है उड़ता किला

0
162

Putin Doomsday Plane: विक्ट्री-डे परेड में क्यों नहीं दिखा रूस का महाविनाश का प्लेन, पुतिन का है उड़ता किला

मास्को: रूस ने सोमवार को अपना 77वां विजय दिवस मनाया। इस विजय दिवस में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने दुनिया को अपनी ताकत दिखाई। लेकिन इस मिलिट्री परेड से उनका महाप्रलय के दिन वाला ‘डूमस्डे प्लेन’ गायब दिखा। यूक्रेन के साथ जारी युद्ध के बीच हुए विक्ट्री डे परेड को लेकर रूस में बच्चे और बूढ़े सभी उत्साहित थे। लेकिन ऐन मौके पर हवाई जहाज की उड़ान को कैंसिल कर दिया गया। जानकारी के मुताबिक मौसम में खराबी होने से बादल काफी नीचे थे, जो विमान की उड़ान में बाधा बनते। इसलिए इसे परेड में शामिल न करने का फैसला लिया गया।

इस बीच यूक्रेन के साथ जारी जंग में रूस की ओर से परमाणु युद्ध का खतरा बना हुआ है। मॉस्को में जहां एक ओर परेड हो रही थी तो उसी दिन यूक्रेन की राजधानी कीव में हवाई हमलों से बचने के लिए सायरन बजे। पुतिन लगातार आक्रामक हैं, जिसे देख कर पश्चिमी देश नाराज हैं। लेकिन विक्ट्री डे के भाषण के दौरान पुतिन ने कहा कि रूसी सेना यूक्रेन में अपनी मातृभूमि की रक्षा कर रही है। पुतिन ने इस दौरान प्रण किया रूस हिटलर की तरह यूक्रेन को भी जंग में पराजित करेगा।
US Doomsday Plane: रूस के बाद अब ऐक्‍शन में अमेरिकी महाव‍िनाश का प्‍लेन, धरती पर ‘प्रलय’ लाने की है क्षमता
डूम्स-डे प्लेन क्या है
डूम्सडे प्लेन एक रूसी विमान है, जिसे राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को न्यूक्लियर हमले की स्थिति में बचाने के लिए तैयार किया गया है। इससे पहले मास्को के आसमान में ये इल्‍यूशिन आईएल-80 विमान उड़ता हुआ नजर आया था। ये तब की बात थी जब पुतिन ने हर तरह के हथियारों के इस्तेमाल की धमकी दी थी। बाद में रूस की ओर से कहा गया कि ये हवाई जहाज विक्ट्री डे परेड के लिए रिहर्सल कर रहा था।
navbharat times -Ukraine War News: रूस के व‍िक्‍ट्री डे पर पुतिन का प्रण, द्वितीय व‍िश्‍व‍युद्ध में हिटलर की तरह यूक्रेन को करेंगे पराज‍ित
विमान की खासियत क्या है
इस विमान को उड़ता हुआ क्रेमलिन भी कहा जाता है। 2010 से इसे किसी परेड में नहीं देखा गया। इस विमान में पायलट के अलावा कोई खिड़की नहीं है। प्लेन की लंबाई 60 मीटर है और ये हवा में उड़ते हुए भी ईंधन भर सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक ये हवाई जहाज 850 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ सकता है। पहली बार इसने 1987 में उड़ान भरी थी। इस विमान की खास बात ये है कि कई सैटेलाइट सीधे इस पर नजर रखती हैं और इसकी ओर आने वाली मिसाइलों को लेकर अलर्ट करती है।



Source link

Copy