तीन राज्यों में मिली करारी शिकस्त के बाद भाजपा को मिली गुजरात में रोशनी की किरण

0

गुजरात: पीएम मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट स्टार्टअप इंडिया को गुजरात में एक नई कामयाबी हासिल हुई है. इस बात की जानकारी नीति एवं संवर्द्धन विभाग (DIPP) ने दी है.

बता दें कि डीआईपीपी के अनुसार, गुजरात स्टार्टअप के लिए उचित माहौल उपलब्ध कराने के मसले में सबसे अधिक प्रदर्शन करने वाला राज्य बना है. गुजरात के बाद सबसे अच्छा प्रदर्शन इन चार राज्य कर्नाटक, केरल, ओडिशा और राजस्थान रहें हैं.  इसके बवजूद बिहार, आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश और तेलंगाना को अगुवा के रूप पर देखा गया है. जबकि, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल अगुवा बनने की चाहत रखने वाले वर्ग में है. इसके अतिरिक्त असम, दिल्ली और गोवा सहित आठ राज्यों को स्‍टार्टअप के लिए उभरता हुआ राज्य के रूप में माना गया है.

यह रैंकिंग सात क्षेत्रों में 38 मानकों के आधार पर की है

आपको बता दें कि डीआईपीपी ने उभरते कारोबारियों के लिए राज्यों द्वारा अधिक अनुकूल तंत्र विकसित करने के प्रदर्शन के आधार पर रैंकिंग जारी की है. इस प्रक्रिया में 27 राज्य और तीन संघ शासित राज्यों ने हिस्सा लिया है. यह रैंकिंग सात क्षेत्रों में 38 मानकों के आधार पर की है. इनमें नीतिगत समर्थन इंक्यूबेटर केंद्रों की स्थापना, शुरुआती निवेश मुहैया कराना और आसान नियम शामिल हैं.

डीआईपीपी सचिव रमेश अभिषेक का कहना है कि राज्यों और संघ शासित राज्यों को रैंकिंग देने के विचार में किसी को शर्मिंद करना का इरादा नहीं है. बल्कि उनको प्रोत्साहित करना है. उन्होंने आगे कहा है कि यह पूरी क्षमता विकास के लिए की गई है. अभी तक 22 राज्यों ने अपनी-अपनी स्टार्ट-अप नीति बने है. रमेश का कहना है कि ऑनलाइन जानकारी देने, नियमों को सरल करने, स्क़रकर खरीद में प्राथमिकता देने और वेंचर कैपिटल फंड स्थापित करने जैसी निम्न गतिविधियों पर राज्यों को मुख्य रूप से अपना ध्यान आकर्षित करना होगा तभी नए कारोबारी इन राज्‍यों का रुख कर सकेंगे.