पीएम मोदी ने सिक्किम एयरपोर्ट का किया उद्घाटन, कहा ‘67 साल में बने 65 एयरपोर्ट, हमने 4 साल में बनाये 35’

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सिक्किम के दौरे पर है. पीएम मोदी ने आज सुबह सिक्किम पहुच कर पकयोंग एयरपोर्ट का उद्घाटन किया. इससे पहले पीएम मोदी दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ सर्विस योजना की शुरुआत करने के लिए ओड़िसा गए थे. बता दे सिक्किम एयरपोर्ट आजादी के बाद प्रदेश का पहला हवाई अड्डा है. यह एयरपोर्ट पहाड़ो के ऊपर बनाया गया है. एयरपोर्ट की खूबसूरती देखते ही बनती है. संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने कहा की 2014 से पहले देश में कुल 65 हवाई अड्डे थे. व्काही उनके सरकार में आने के बाद कुल 35 नए एयरपोर्ट बने है.

पीएम मोदी ने स्थानीय भाषा में शुरू किया संबोधन, बताया बेहद सुंदर राज्य

पीएम नरेंद्र मोदी ने राज्य के पहले हवाई अड्डे का उद्घाटन किया. इस दौरान उनके साथ केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु भी मौजूद रहे. प्रधानमंत्री ने यहां एक  जनसभा को भी संबोधित किया. उन्होंने स्थानीय भाषा में अपने भाषण की शुरुआत की.

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज सुबह मैंने सिक्किम में बिताई, यहां का उगता सूरज, ठंडी हवा और प्रकृति देखकर मैं भी कैमरे से फोटो निकालने लग गया था. देश में नॉर्थ ईस्ट का अलग ही महत्व है. उन्होंने कहा कि आज का दिन सिक्किम और देश के लिए ऐतिहासिक है.

देश का 100वा एयरपोर्ट, बनाने में लगे 600 करोड़ रूपए

सिक्किम एयरपोर्ट देश का 100वा बन गया है. इस एयरपोर्ट का नाम पकयोंग एयरपोर्ट रखा गया है. एयरपोर्ट का नज़ारा बेहद ही खुबसूरत है. इस हवाई अड्डे को बनाने में लगभग 600 करोड़ रूपए कि लागत आई है. वही यह एयरपोर्ट 201 एकड़ के क्षेत्रफल में फैला है. गंगटोक से इसकी दुरी सिर्फ 30 किलोमीटर है.

समुद्र तल से 4,500 फुट की ऊंचाई पर बसे पाकयोंग गांव के करीब दो किलोमीटर ऊपर एक पहाड़ी की चोटी पर बनाया गया है. यह भारत-चीन सीमा से करीब 60 किलोमीटर दूर है.उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में मुख्य रनवे के बगल में 75 मीटर लंबी एक अन्य पट्टी के निर्माण के बाद भारतीय वायुसेना इस हवाई अड्डे पर विभिन्न प्रकार के विमान उतार सकेगी.

राज्य के लोग एयरपोर्ट बनने से बेहद खुश

इससे पहले सिक्किम का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा 124 किलोमीटर दूर पश्चिम बंगाल के बागडोगरा में है. इस एयरपोर्ट के बनने के बाद से राज्य को लोग बेहद उत्साहित है. लोगों का कहना है की एयरपोर्ट बनने से राज्य में रोज़गार के ज्यादा अवसर मिलेंगे. वही कनेक्टिविटी भी बेहतर होगी.